पोस्टल बैलेट को लेकर उठ रहे सवाल, आयोग से पहल की मांग

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः वोटकर्मी ऐक्य मंच ने सीईओ आरिज आफताब को पत्र लिखकर अपील की है कि पोस्टल बैलेट को लेकर सवाल न खड़े हों। संगठन के महासचिव स्वपन मंडल ने कहा कि पोस्टल बैलेट से होने वाला मतदान एक खास वर्ग यानी‌ कि जो लोग चुनावी ड्यूटी में रहते हैं, उनके लिए ही रहता है। हालांकि इस बार कई अन्य वर्ग को भी इस दायरे में लाया गया है। हालांकि इस बार राजनीतिक दलों की ओर से बार-बार पोस्टल बैलेट में अनियमितता संबंधी शिकायत की गई है। वोटकर्मी ऐक्य मंच की अपील है कि इस पर चुनाव आयोग ध्यान दे, साथ ही ठोस पहल करे।
काफी मतदान कर्मियों को अब भी नहीं मिले पोस्टल बैलेट
शिक्षक शिक्षाकर्मी शिक्षानुरागी एेक्य मंच की राज्य समिति के सचिव किंकर अधिकारी ने कहा कि राज्य में दो चरण का मतदान हो चुका है। राज्य भर में मतदान कर्मचारियों का प्रशिक्षण कहीं अंतिम चरण में, कहीं पर समाप्त हो गया है। हमें कई शिकायतें मिली हैं कि कई मतदाताओं को अभी तक डाक मतपत्र (पोस्टल बैलेट) नहीं मिले हैं। यहां तक ​​कि उन क्षेत्रों में जहां मतदान पूरा हो चुका है, कई मतदानकर्मियों को डाक मतपत्र नहीं मिले हैं। हम मतदान कराने जा रहे हैं, लेकिन हम अपने मतदान के अधिकार का प्रयोग नहीं कर पा रहे हैं। पिछले चुनाव में कई उदाहरण सामने आए हैं, जहां मतदान कर्मचारी मतदान नहीं कर सके, क्योंकि उन्हें अंत में पोस्टल बैलेट नहीं मिला था। व्यक्तिगत रूप से मैं भी इस स्थिति का शिकार हूं। मैं खुद एक चुनाव कार्यकर्ता के रूप में काम कर रहा हूं। मैंने सुना है कि मतदान के दिन, अपने स्वयं के निवास में मतदान केंद्र पर मतदाता सूची में मेरे नाम के बगल में पोस्टल बैलेट मुद्दे का कोई संकेत नहीं था। हम चुनाव आयोग से यह सुनिश्चित करने का आग्रह करते हैं कि सभी मतदान कर्मियों को उनके पोस्टल बैलेट मिले और वोटों की गणना विधानसभा आधार पर एक साथ की जाए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मानसिक संतुलन की सीख ले रही है तीरंदाज दीपिका

कोलकाता : अपने तीसरे ओलम्पिक खेलों में भाग लेने की तैयारियों में जुटी भारत की नंबर एक महिला तीरंदाज दीपिका कुमारी इस खेल में ओलम्पिक आगे पढ़ें »

तैयार रहें अस्पताल, बेकाबू हो सकता है कोरोना

मुख्य सचिव ने की अहम बैठक, इन अस्पतालों में कोविड का इलाज पूरा उत्तीर्ण तब्दील होगा सेफ होम में सन्मार्ग संवाददाता काेलकाता : कोरोना के मामले जिस तरह आगे पढ़ें »

ऊपर