प्रिंसिपल व शिक्षिका में सरेआम हो रही थी मारपीट, लोगों ने दी पुलिस को खबर

पीड़िता का आरोप-शिकायत करने के कारण ही किया जा रहा था उसे परेशान
बनगांव : शनिवार को बनगांव के उत्तर कालुपुर आनंद संघ प्राथमिक स्कूल में स्कूल की शिक्षिकाओं व प्रिंसिपल के बीच शुरू हुआ विवाद मारपीट में बदल गया। इस हाथापाई को देखते हुए अभिभावकों का भी विरोध सामने आया और उन्होंने हाथापाई कर रहे शिक्षकों को वहीं बंधक बनाकर इसकी खबर पुलिस को दी। स्कूल में मारपीट कर रहे उन शिक्षकों को पुलिस अपने साथ थाने में ले गयी। मिली जानकारी के अनुसार शिक्षिका इतिकाबाला बाइन का आरोप है कि प्रिंसिपल अक्षय कुमार विश्वास उसके साथ बुरा बर्ताव करते हैं, इसका प्रतिवाद करने के कारण ही शनिवार को उन्होंने उस पर हाथ उठा दिया। यहां तक कि अभियुक्त शिक्षक ने उन्हें धक्का देकर जमीन पर गिरा दिया और उसे पीटने लगा। फलस्वरूप उसे भी मुकाबला करना पड़ा। स्कूल में मचे हो-हल्ला को सुनकर ​अभिभावक जब वहां पहुंचे तो उन्होंने प्रिंसिपल को शिक्षिका को पीटते हुए देखा। उनका आरोप है कि उनके बार-बार कहने के बाद भी दोनों ने मारपीट बंद नहीं की। वहीं इसकी खबर शिक्षिका के पति को चली तो वह भी वहां पहुंच गया और इस विवाद में शामिल हो गया। पीड़ित शिक्षिका के पति का आरोप है कि प्रिंसिपल उसकी पत्नी पर बुरी नजर रखता है जिसको लेकर उन्होंने थाने में शिकायत की थी। इसके बाद ही खुन्नस खाकर बैठे उस शिक्षक ने यह सब फसाद शुरू कर दिया। उन्होंने थाने में इसकी शिकायत भी दर्ज करवायी है। स्थानीय लोगों का भी आरोप है कि इतिकाबाला वहां 10 सालों से नौकरी कर रही है मगर 3 साल पहले जबसे अक्षय कुमार विश्वास यहां प्रिंसिपल बनकर आये उनके व्यवहार से यहां का माहौल बिगड़ने लगा। हालांकि कुछ लोगों का आरोप है कि शिक्षिका का उनके साथ संपर्क भी है मगर किसी कारण से दोनों के बीच अभी अनबन चल रही थी। इस बीच ही उन्हें इस दिन मारपीट करते हुए देखा गया। वहीं इस मामले में प्रिंसिपल की ओर से कोई बयान नहीं दिया गया है। पुलिस ने मामले में उनसे पूछताछ शुरू की है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

गाजियाबाद : 11 साल के बच्चे ने मांगी 10 करोड़ की फिरौती

गाजियाबाद : पांचवीं क्लास में पढ़ने वाले 11 साल के बच्चे से आप क्या-क्या करने की उम्मीद कर सकते हैं । उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद आगे पढ़ें »

तिरंगे का अपमान नहीं सहेंगे, बहुत हुआ

'तिरंगे का अपमान, नहीं सहेगा हिंदुस्‍तान' नई दिल्‍ली : गणतंत्र दिवस पर दिल्‍ली में हुई हिंसा का असर किसानों के आंदोलन पर दिख रहा है। दिल्‍ली आगे पढ़ें »

ऊपर