आज होलिका दहन, महापर्व गणगौर की तैयारियां शुरू

कोलकाता : होलिका दहन, हिन्दुओं का एक महत्वपूर्ण पर्व है होलिका दहन दीपक और छोटी होली के नाम से भी जाना जाता है। वहीं गणगौर महोत्सव राजस्थानी समाज का मुख्य पर्व है।इस पर्व का प्रारंभ होलीका दहन के उपरांत प्रारम्भ हो जाता है। कुंवारी कन्याएं और महिलायें माँ गवरजा की पूजा नियमित रूप से सुबह और शाम को करती हैं। सार्वजनिक रूप में कोलकाता महानगर व आस पास के अंचलों में राजस्थानी समाज गणगौर महोत्सव को बड़ी धूम धाम से मनाता है। महिलाओं, पुरुषों एवं बच्चों द्वारा सामूहिक रूप से मनाया जाने वाला कोलकाता का गणगौर मेला है। नए सम्वत के प्रारंभ होते ही समाज के लोग इस सार्वजनिक गणगौर महोत्सव को मनाने में सक्रिय हो जाते हैं। राजस्थान के बाद कोलकाता में गणगौर पर्व बड़े उत्साह से मनाया जाता है। बड़ाबाजार में इसका उत्साह देखने को बनता है। इसके अलावा लेकटाउन, कांकुड़गाछी, हावड़ा एसी, रिसड़ा से महिलाएं व युवतियां गणगौर, ईसर व कानूड़े की प्रतिमाएं खरीद कर ले जाती हैं और इनकी पूजा की जाती है। इसी की तैयारी के तहत कलाकार गणगौर-ईसर व कानूड़े की प्रतिमाएं बनाने में जुट गए हैं। होली के एक दिन बाद से ही यानी चैत्र कृष्ण एकम से गणगौर पूजन शुरू हो जाता है। राजस्थानियों के घर-घर गणगौर का पूजन किया जाता है। पूजा के दौरान गणगौर के गीत गाती हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कमिंस-रसेल के अर्धशतक बेकार, केकेआर की लगातार तीसरी हार

कोलकाता को 18 रन से हरा चेन्नई ने लगाई जीत की हैट्रिक मुंबई : आईपीएल 2021 के 15वें मैच चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) ने कोलकाता नाइट आगे पढ़ें »

कोरोना से मरीज त्रस्त, नर्सिंग होम्स बिल बनाने में व्यस्त

दक्षिण कोलकाता के नर्सिंग होम पैकेज पर ले रहे हैं कोरोना मरीजों को कोलकाता : कोरोना के कारण राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था ​अब धीरे-धीरे चरमरा रही आगे पढ़ें »

ऊपर