मुंह पर फूंक मारकर ड्रंक ड्राइविंग का टेस्ट कर रहे हैं पुलिस कर्मी

अपने साथ-साथ साथियों के लिए बढ़ा रहे हैं कोरोना का खतरा
बीडन स्ट्रीट के निकट जेएम एवेन्यू की घटना
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कोरोना काल के बाद महानगर में रात के वक्त ड्रंक ड्राइविंग की घटनाएं प्रकाश में आने के बाद कोलकाता पुलिस की ओर से ब्रेथ एनलाइजर टेस्ट दोबारा चालू कर दिया गया। शुरुआत में पुलिस की ओर से ब्रेथ एनलाइजर मशीन के जरिए वाहन ड्राइवरों की जांच की जा रही थी। बाद में संक्रमण के डर को देखते हुए पुलिस की ओर से डिस्पोजेबल स्ट्रॉ का इस्तेमाल चालू हो गया। हालांकि इन सब के बीच कुछ पुलिस कर्मी अपनी लापरवाही के कारण खुद के साथ-साथ अपने साथियों को भी कोरोना संक्रमण के करीब ला रहे हैं। दरअसल बीते कुछ दिनों से सन्मार्ग कार्यालय में शिकायत आ रही थी कि रात के 12 बजे के बाद सेंट्रल एवेन्यू व जतीन्द्र महोन एवेन्यू से गुजरने वाली कार व अन्य वाहन ड्राइवरों को ब्रेथ एनलाइजर टेस्ट के नाम पर रोका जाता है। एक बार वाहन रोकने पर गाड़ी चला रहे व्यक्ति को पुलिस कर्मी मशीन की जगह उनके चेहरे पर फूंक मारने के लिए कहते हैं। ऐसी हैरान करने वाली टेस्ट की बात सामने आने के बाद सोमवार की शाम सन्मार्ग की टीम इसके हकीकत का पता लगाने के लिए निकली तो उन्हें भी कुछ ऐसा ही सामना करना पड़ा। सोमवार की देर रात 1 बजे जब सन्मार्ग की टीम अपनी कार में महाजाति सदन से शोभाबाजार की तरफ जा रही थी तभी बीडन स्ट्रीट क्रॉसिंग पार करते ही दो पुलिस कर्मियों ने हाथ दिखाकर कार को रोका। यही नहीं पुलिस कर्मियों ने ड्राइवर को बाहर निकलने के लिए कहा। कार रोकने की वजह पूछने पर पुलिस कर्मियों ने बताया कि रात के वक्त शराब पीकर कोई वाहन चला रहा है या नहीं इसकी जाचं करने के लिए उन्होंने कार को रोका। पुलिस कर्मियों ने कहा कि उन्हें ऊपर से जांच करने का आदेश दिया गया है। ऐसे में जब टेस्ट करने की बात आयी तो कार चला रहे व्यक्ति ने पुलिस कर्मी को मशीन लाने के लिए कहा तो पुलिस कर्मी ने कहा कि उनके पास मशीन नहीं है। अगर आप मुंह पर फूंक मारेंगे तो हम समझ जाएंगे कि आप ने शराब पी है या नहीं। पुलिस कर्मी की यह बात सुनकर थोड़ी देर के लिए हम अचंभित रह गए। हालांकि ड्यूटी पर तैनात एक पुलिस कर्मी की बात को मानते हुए उनके चेहरे पर फूंक मारी गयी और फिर उन्होंने हमें आगे की यात्रा के लिए जाने दिया। इन सबके बीच सवाल उठता है कि क्या वाकई में बिना ब्रेथ एनलाइजर मशीन के इस तरह से टेस्ट कर पुलिस कर्मी अपनी ड्यूटी का निर्वहन कर रहे हैं, क्या वह इस तरह ड्यूटी कर के अपने साथ अपने साथियों को भी कोरोना संक्रमण की चपेट में लाने की कोशिश नहीं कर रहे? क्योंक‌ि यह इलाका जोड़ाबागान ट्रैफिक गार्ड के अंतर्गत पड़ता है तो हमने ट्रैफिक प्रभारी से पूछा तो उन्होंने कहा कि रात के वक्त उस जगह पर ट्रैफिक गार्ड का कोई पुलिस कर्मी तैनात नहीं रहता है। इधर बड़तल्ला थाने की पुलिस की ओर से घटना की जांच करने की बात कही गयी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

ब्रेकिंगः कोलकाता के इस नर्सिंग होम से निकलती हैं लाशें

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः महानगर के सदानंद रोड में एक नर्सिंग होम के नीचे रहने वाले लोगों ने आ‌पत्ति जताई थी कि यहां से कोविड के समय आगे पढ़ें »

विधाननगर : ऐप के जरिए लोन देकर महिला से ठगे 7 लाख, दो गिरफ्तार

बंगालः दिव्यांगता का सर्टिफिकेट लेने अस्पताल आये बुजुर्ग की हुई मौत

मशहूर पेंटर वसीम कपूर पहुंचे मंत्री फिरहाद हकीम के घर

राजस्थान में पुनर्जन्म! 4 साल की बच्ची किंजल का दावा, ‘मैं थी ऊषा….

बड़ी खबरः बेलूड़ में बीच गंगा में व्यक्ति ने लगायी छलांग

वॉट्सऐप और टेलीग्राम पर गलती से भी न भेजें ये मैसेज, सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस

सेक्स के दौरान लड़कियों को यहां मार खाने से आता है बहुत मजा

चेंजिंग रूम में हिडेन कैमरा लगाकर इस एक्ट्रेस ने साथी एक्ट्रेस का बनाया न्यूड वीडियो

बड़ी खबरः शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु बोले,… तो इस दिन से बंगाल में स्कूल…

ऊपर