हाईकोर्ट का निर्देश श्रद्धालुओं के लिए लागू करने में अति सक्रिय दिखे पुलिस कर्मी और वॉलंटियर्स

कोविड नियमों के दायरे में आउट्राम घाट से श्रद्धालुओं का गंगासागर जाना शुरू
सबिता राय
कोलकाता : कोरोना की तीसरी लहर के बीच इस बार गंगासागर मेला हो रहा है लेकिन गंगासागर वहीं जा पायेंगे जिनकी आरटीपीसीआर रिपोर्ट नेगटिव हो या फिर दोनों डोज ले चुके हों। मंगलवार को हाईकोर्ट ने यह निर्देश दिया है। निर्देश के बाद ही बुधवार को बाबूघाट, आउट्राम घाट पर पुलिस प्रशासन अति सक्रिय दिखा। यहां से गंगासागर जाने के लिए तैयार बसों में सवार श्रद्धालुओं के कोविड डोज के सर्टिफिकेट चेक किये गये। हर एक बस में पुलिस अंदर जाकर सर्टिफिकेट देखती नजर आयी। सुबह से ही आउट्राम घाट के निकट भारी संख्या में बसें खड़ी थीं। जानकारी के मुताबिक शाम 5 बजे तक करीब 23 बसें गंगासागर के लिए रवाना हुईं। पुलिस कर्मी न केवल सर्टिफिकेट देख रहे थे बल्कि जिन्होंने सही तरीके से मास्क नहीं पहना था, उन्हें सही से मास्क पहनने के लिए सचेत कर रहे थे।
कई श्रद्धालु हुए रवाना, कई आज जाने को हैं तैयार
बुधवार के बाद आज गुरुवार को भी भारी संख्या में श्रद्धालु गंगासागर के लिए रवाना होंगे। कई लोगों ने सन्मार्ग से बातचीत करते हुए कहा कि हमलोगों का दोनों डोज पूरा हो चुका है। हमलोग हर तरह से कोविड नियमों को मान रहे हैं। प्रशासन की पूरी मदद कर रहे हैं, और आगे भी करेंगे। गुरुवार को हमलोग रवाना होंगे।
क्या दिया है हाईकोर्ट ने निर्देश
हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस प्रकाश श्रीवास्तव और जस्टिस केशांग दोमा भूटिया के डिविजन बेंच ने अपने आदेश में कहा है कि जिनकी कोविड रिपोर्ट निगेटिव होगी या डबल डोज लेने का सर्टिफिकेट होगा वही गंगासागर जा सकता है। हाई कोर्ट की पूर्व जज समाप्ति चटर्जी की अध्यक्षता में दो सदस्यों की एक कमेटी बनायी गई है। यह कमेटी गंगासागर में रह कर निगरानी करेगी और अगर कोविड का संक्रमण बढ़ता है तो तत्काल गंगासागर क्षेत्र में प्रवेश पर रोक लगाने की सिफारिश करेगी और सरकार को इस पर अमल करना पड़ेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

रात में कई घंटों तक नहीं मिला कोई साधन…तो घर जाने के लिए चुरा ली सरकारी बस

अमरावती: आंध्र प्रदेश के विजयनगरम जिले में एक अजीब मामला सामने आया है। यहां पर एक शख्स को देर रात घर जाने के लिए कोई साधन आगे पढ़ें »

ऊपर