ट्रांसजेंडर व महिलाओं से छेड़छाड़, पुलिस इंस्पेक्टर गिरफ्तार

कोलकाता: एक ट्रांसजेंडर एवं उसकी दो महिला साथियों की कार रोककर सड़क पर छेड़छाड़ करने के आरोप में पुलिस ने कोलकाता ट्रैफिक पुलिस के एक इंस्पेक्टर को गिरफ्तार किया है। घटना बहूबाजार थानांतर्गत चित्तरंजन एवेन्यू की है। अभियुक्त पुलिस कर्मी का नाम अभिषेक भट्टाचार्य है। वह साउथ वेस्ट ट्रैफिक गार्ड के एडिशनल ओसी (2) के पद पर कार्यरत है। कोलकाता पुलिस की ओर से अभिषेक को सस्पेंड कर दिया गया है। आरोप है कि घटना के समय पुलिस अधिकारी नशे में था। मंगलवार को अभियुक्त पुलिस कर्मी को अदालत में पेश किया गया जहां से उसे जमानत मिल गयी।

क्या है पूरा मामला

पुलिस सूत्रों के अनुसार सोमवार की रात साढ़े 8 बजे चित्तरंजन एवेन्यू स्थित रेस्तरां में वेस्ट बंगाल ट्रांसजेंडर डेवलपमेंट बोर्ड की सदस्य अपनी दो महिला साथियों के साथ नाश्ता करने के लिए पहुंची थी। रेस्तरां के बाहर ही उनकी कार खड़ी थी। आरोप है कि रात को जब वे लोग रेस्तरां से निकलकर जैसे ही कार में बैठे तभी एक व्यक्ति ने उनकी कार को रोका। बहूबाजार थाने में पीड़िता द्वारा दर्ज शिकायत में कहा गया है कि उक्त व्यक्ति ने खुद को पुलिस कर्मी बताया था।

पीड़िता का आरोप है कि जब उन्होंने उक्त पुलिस कर्मी से कार रोकने की वजह पूछी तो उसने अश्लील इशारे किए। पीड़िता ने बताया कि अभियुक्त ने अश्लील आचरण करने के साथ ही कार का गेट खोलकर अंदर बैठी महिलाओं के हाथ पकड़ कर नीचे उतारने की भी कोशिश की। आरोप है कि अभियुक्त पुलिस कर्मी ने पीड़िता के ड्राइवर के साथ मारपीट की। हमले में ड्राइवर का हाथ टूट गया। पीड़िता ने कार के अंदर से अभियुक्त की तस्वीर खींची एवं 100 डायल कर पुलिस को घटना की जानकारी दी।

महिलाओं के अनुसार जब पुलिस मौके पर पहुंची तो उन्होंने अभियुक्त को सर कह कर संबोधन किया था। ऐसे में उन्हें पक्का यकीन हो गया कि अभियुक्त पुलिस कर्मी है। इसके बाद सोमवार की देर रात पीड़िता ने थाने में लिखित शिकायत दर्ज करायी। कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पीड़िता ने जिनके खिलाफ शिकायत की है वह कोलकाता ट्रैफिक पुलिस के इंस्पेक्टर रैंक के अधिकारी हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

जगधात्री पूजा पंडाल को ‘नो एंट्री जोन’ बनाया गया

 चंदननगर के जगधात्री पूजा पंडाल में नहीं होगी आम जनता की एंट्री। जगद्धात्री (= जगत् + धात्री = जगत की रक्षिका) दुर्गा का एक रूप हैं। आगे पढ़ें »

शीत ऋतु में सावधानी है जरूरी

-    सर्दियों में जठराग्नि प्रबल रहती है, इसलिए इन दिनों में पौष्टिक तथा बलवर्द्धक आहार लेना चाहिए। सर्दियों में खट्टा, खारा, मीठा प्रधान आहार लेना आगे पढ़ें »

ऊपर