अगले सप्ताह ही बंगाल पहुंच रहे पुलिस ऑब्जर्वर, आयोग ने मांगा चाॅपर

possible elections in Jammu and Kashmir by the end of the year

कोलकाताः राज्य में चुनाव की घोषणा के साथ ही स्पेशल ऑब्जर्वर के बंगाल में पहुंचने की तिथियों पर भी चर्चा होने लगी है। आयोग सूत्रों की मानें तो दोनों ही पुलिस ऑब्जर्वर राज्य में अगले सप्ताह पहुंचेंगे। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 के लिए कार्यक्रम की घोषणा के साथ, यह घोषणा की गई है कि चुनाव के लिए दो पुलिस पर्यवेक्षकों को पश्चिम बंगाल भेजा जा रहा है। वे जल्द ही राज्य में आ सकते हैं। उनके कार्यों को ध्यान में रखते हुए, भारत निर्वाचन आयोग ने हेलिकाॅप्टर के लिए आवेदन किया है। विवेक दुबे को लोकसभा चुनाव में हेलिकॉप्टर न मिलने से सड़क मार्ग से ही यात्रा करनी पड़ी थी। इस बार आयोग ने गृह मंत्रालय से अपील की है कि उन्हें चाॅपर दिया जाए। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि दो पुलिस पर्यवेक्षकों, विवेक दुबे और मृणालकांति दास को तुरंत पश्चिम बंगाल जाने के लिए कहा गया है। सूत्रों के मुताबिक वे अगले हफ्ते की शुरुआत में आएंगे, लेकिन इससे पहले वह दिल्ली चुनाव आयोग के अधिकारियों के साथ एक बैठक कर सकते हैं। संभवतः यह बैठक अगले सोमवार को होगी। इस बैठक के बाद वह पश्चिम बंगाल आ सकते हैं।
दौरा करने में चॉपर से होगी सुविधा
राज्य में इस बार आठ चरणों में चुनाव होंगे। यह निर्णय लिया गया है कि ये दोनों पुलिस पर्यवेक्षक अलग-अलग चरणों में उपलब्ध सीटों को साझा करेंगे। आयोग ने केंद्रीय गृह मंत्रालय से हेलिकॉप्टरों के लिए अनुरोध किया है ताकि दोनों पर्यवेक्षक आवश्यकतानुसार विभिन्न स्थानों का दौरा कर सकें। अर्द्धसैनिक बलों के पहुंचने के बाद भी उस बार चॉपर मिलने में परेशानी हुई थी। विवेक दुबे 2019 के लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल में पुलिस पर्यवेक्षक थे। वहीं मृणाल कांति दास त्रिपुरा में हुए चुनाव में पुलिस पर्यवेक्षक की भूमिका निभा चुके हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पिता का किया अंतिम संस्कार मगर वायरल वीडियों में दिखे जीवित पिता

नई दिल्ली : कुछ दिनों पहले अंतिम संस्कार के लिए लाए गए कोविड रोगी के जीवित होने की घटना सामने आई थी। उसके बाद अब आगे पढ़ें »

मोदी सरकार का बड़ा फैसला, 80 करोड़ लोगों को मुफ्त में मिलेगा दो महीने का राशन

कोलकाताः केंद्र सरकार ने कोरोना महामारी को देखते हुए बड़ा फैसला लिया है। केंद्र सरकार ने घोषणा की है कि देश के 80 करोड़ लोगों आगे पढ़ें »

ऊपर