सरोवर में पुलिस चौकस, गेट हुए बंद पर निर्णायक होंगे आज छठव्रती ही

कोलकाता : आज आस्था और विश्वास के महापर्व छठ का पहला अर्घ्य है। इस बार कोरोना के कारण पर्यावरण को सुरक्षित रखने के उद्देश्य से अदालत ने महानगर के दो बड़े लेक रवींद्र सरोवर और सुभाष सरोवर में छठ पूजा पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी है। कोर्ट का कहना है कि लेक में छठ पूजा की अनुमति दिये जाने से पर्यावरण को नुकसान पहुंचने की संभावना है। कोर्ट के आदेश के बाद प्रशासन ने भी तमाम तरह के इंतजाम किये हैं ताकि किसी भी हाल में छठव्रती उक्त दोनों लेक के अंदर ना आ पायें। गेट बंद करने से लेकर पुलिस की पोस्टिंग तक की गयी है, लेकिन कहा जा रहा है कि अंतिम निर्णय तो आज छठव्रती ही करेंगे।

सुभाष सरोवर के सभी गेट बंद, हुई पुलिस की तैनाती
स्वभूमि के निकट लगभग 73 एकड़ की जमीन पर फैले सुभाष सरोवर में 600 से अधिक पेड़ हैं। कोर्ट के आदेश के बाद सरोवर के सभी गेट बंद कर दिये गये। जिन – जिन स्थानों से छठव्रती अंदर आ सकते हैं, उन सभी स्थानों को टीन के शेड अथवा बांस से घेर दिया गया है। गुरुवार को अपराह्न 3 बजे से ही सुभाष सरोवर को पूरी तरह बंद कर दिया गया है। प्रत्येक गेट के पास पुलिस की तैनाती गुरुवार से ही कर दी गयी।

आज सुबह से ही पुलिस कर्मियों की संख्या बढ़ा दी जाएगी। ड्यूटी पर तैनात एक पुलिस कर्मी ने बताया कि सरोवर में लगभग 2 से ढाई लाख लोगों की भीड़ छठ पूजा के समय होती है। आस-पास की बस्तियों के सभी लोग यहां छठ पूजा करने आते हैं।

की गयी है वैकल्पिक जलाशयों की व्यवस्था
सुभाष सरोवर के आस-पास रहने वाले छठव्रतियों के लिए बस्तियों के निकट ही कृत्रिम जलाशयों की व्यवस्था स्थानीय प्रशासन की ओर से की गयी है। नारकेलडांगा मेन रोड के सेवकनगर बस्ती के रहने वाले गोविंद हरि ने बताया कि हर बार पूरा परिवार सुभाष सरोवर में जाकर छठ पूजा करता था, लेकिन इस बार पाबंदी है। ऐसे में प्रशासन की ओर से जलाशय की जो व्यवस्था की गयी है, वहां ही छठ पूजा करेंगे।

मोहन हरि ने बताया कि उनकी बस्ती में लगभग 50 घर ऐसे हैं जो छठ पूजा करने सुभाष सरोवर जाते हैं, लेकिन इस बार ऐसा नहीं हो पायेगा। वहीं कुछ छठव्रती कोर्ट के इस निर्णय से असंतुष्ट हैं और कह रहे हैं कि अगर एक या दो लोगों को साथ लेकर सरोवर में जाने देते तो इससे भला कौन सा माहौल बिगड़ जाता। सुभाष सरोवर के निकट ही रहने वाले आयुष झा और सरस्वती देवी ने बताया कि हर बार हम रवींद्र सरोवर में छठ पूजा करते थे, लेकिन इस बार कोर्ट की पाबंदी के कारण ऐसा नहीं हो पा रहा है। यहां कुल 16 घर हैं जो सरोवर में छठ पूजा करते हैं। जब हर त्योहार को मंजूरी दी जा सकती है तो फिर छठ पूजा को क्यों नहीं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

टी-20 में ऑस्ट्रेलिया को कड़ी चुनौती देगा भारत, ऑस्ट्रेलिया में 12 साल से सीरीज नहीं हारी टीम इंडिया

कैनबरा : एक दिवसीय श्रृंखला में विकल्पों की कमी के कारण मिली हार के बाद भारतीय क्रिकेट टीम शुक्रवार से शुरू हो रही तीन मैचों आगे पढ़ें »

रेसलिंग वर्ल्ड कप में उतरेंगे भारत के 24 पहलवान

नयी दिल्ली : कोरोना के बीच सर्बिया के बेलग्रेड में 12 से 18 दिसंबर के बीच इंडिविजुअल रेसलिंग वर्ल्ड कप खेला जाएगा। इसमें दीपक पुनिया, आगे पढ़ें »

ऊपर