ड्राइ पोर्ट मामले में आरोपी प्रसेनजीत को पुलिस ने असम से दबोचा

ड्राइ पोर्ट मामले में आरोपी प्रसेनजीत को पुलिस ने असम से दबोचा-आज होगी जलपाईगुड़ी कोर्ट में पेशी
-सात दिनों के रिमांड पर मंगलवार लाया गया सिलीगुड़ी
-साफेखाती, तिनसुकिया बोरहाट में था प्रसेनजीत का ठीकाना
सिलीगुड़ी: एनजेपी टी पार्क संलग्न ड्राइ पोर्ट की घटना में आरोपी पूर्व तृणमूल नेता प्रसेनजीत राय को सिलीगुड़ी मेट्रोपोलिटन पुलिस की स्पेशल टीम ने दबोच लिया। असम के साफेखाती इलाके से वह पुलिस के हत्थे चढ़ा है। प्रसेनजीत को सात दिनों के ट्रांजिट रिमांड पर लेकर मंगलवार पुलिस की स्पेशल टीम सिलीगुड़ी पहुंची। प्रसेनजीत को पुलिस की कड़ी सुरक्षा निगरानी में भक्तीनगर थाने में रखा गया है। बुधवार उसे जलपाईगुड़ी कोर्ट में पेश किया जायेगा।
पुलिस सूत्रों ने बताया कि घटना को अंजाम देने के बाद डुवार्स होते हुए प्रसेनजीत असम निकल गया था। पुलिस को चकमा देने के लिए असम में रहकर भी वह अपना लोकेशन बदल रहा था। कभी साफेखाती, तिनसुकिया तो कभी बोरहाट में प्रसेनजीत को देखा गया। असम में प्रसेनजीत के रिस्तदार भरे हुए है। उन रिस्तेदारों के घरों में ही प्रसेनजीत ने आश्रय ले रखा था। मोबाइल लोकेशन को ट्रेस करने के साथ पुलिस ने उसके गतिविधियों पर भी नजर रख रही थी। एसएमपी के कमीश्नर डीपी सिंह के निर्देश पर पिछले सप्ताह पुलिस के चार लोगों की एक स्पेशल टीम प्रसेनजीत को दबोचने के लिए असम रवाना हो गई। सूत्रों ने ये भी बताया कि असम पुलिस की सहायता से प्रसेनजीत के ठीकानों पर अभियान भी चलाया गया। लेकिन बार बार वह पुलिस के हाथ से बच निकला। सिलीगुड़ी से गई पुलिस टीम को खबर लगी कि सोमवार प्रसेनजीत वापस से अपने नये ठिकाने के लिए निकलने वाला है। तीनसुकिया पुलिस की सहायता से पुलिस की स्पेशल टीम ने अपना जाल बिछाया। असम के बोरहाट से साफेखाती जाने के क्रम में हाईवे पर ही एक प्राइवट गाड़ी से पुलिस ने प्रसेनजीत को गिरफ्तार कर लिया। उस वक्त भी प्रसेनजीत खुद गाड़ी चला रहा था। मंगलवार प्रसेनजीत को असम कोर्ट में पेश करके सात दिनों के रिमांड पर हवाई मार्ग से सिलीगुड़ी लाया गया।
गिरफ्तारी के बाद आया प्रसेनजीत का बयान
बागडोगरा एयरपोर्ट पर उतड़ने के बाद पत्रकारों के सवाल पर प्रसेनजीत ने कहा कि राज्य सरकार का प्रोजेक्ट चल रहा था। .हालाकि वह इलाका राज्य सरकार के कार्य क्षेत्र में आता है। इस लिए उन्होंने उस मामले में हस्तक्षेप किया था। पार्टी द्वारा बहिष्कार करने को लेकर किये गये सवाल पर उसने कुछ नहीं कहा।
उल्लेखनीय हो कि गत 4 फरवरी को टी पार्क ड्राइपोर्ट में एनजेपी आईएनटीटीयूसी तथा प्रबंधन के बिच विवाद हुआ था। घटना को लेकर पुरा इलाका रणक्षेत्र में बदल गया। परिस्थिती को शांत करने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा था। घटना के बाद थाने में शिकायत दर्ज होते ही प्रसेनजीत ने खुद को नजरबंद कर लिया। विभिन्न जगहों पर अभियान चलाकार पुलिस ने उसके 13 साथियों को गिरफ्तार भी किया था। दार्जिलिंग जिला तृणमूल द्वारा एक संवाददाता सम्मेलन के माध्यम से उसे पार्टी के सभी पदों से हटा दिया गया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

इन तीन दिन गलती से भी बाल-नाखून न काटें

कोलकाताः हिन्दू धर्म में ऐसे हजारों नियम हैं जिसका वैज्ञानिक कारण है। या आप चाहे तो इन बातों को धर्म से जोड़कर न देखें। परंपराएं सैकड़ों-हजारों आगे पढ़ें »

इंस्टेंट ब्लड शुगर कंट्रोल करने के लिए रोजाना पिएं संतरे के छिलके की चाय

कोलकाताः दुनियाभर में पानी के बाद  चाय सबसे अधिक दिया जाने वाला पॉपुलर पेय है। भारत में इसकी खपत सबसे अधिक है। यहां लोगों के आगे पढ़ें »

ऊपर