थाने से महज 100 मीटर की दूरी पर था जहरीली शराब का ठेक

रेल लाइन के जरिये गजानंद बस्ती में पहुंचाया जाता था ‘मौत का सामान’
आरोपी इलाके में ही 15 घर भाड़े पर लेकर चलाता था ठेक, कई बार की गयी शिकायतें
हावड़ा : बुधवार से मालीपांचघड़ा थाना अंतर्गत धर्मुतल्ला रोड की गजानंद बस्ती सुर्खियों में है, क्योंकि यहां पर जहरीली शराब पीने से कई लोगों की मौत हो गयी। पुलिस के अनुसार यह आंकड़ा भले ही 10 या फिर 12 है मगर इलाके के लोगों की माने तो यह आंकड़ा 30 पार कर चुका है। मालीपांचघड़ा थाने के बगल से जाएं तो यह रास्ता 60 सेकेंड का है और दाहिने ओर के रास्ते से जाएं यानी धर्मुतल्ला रोड से तो थाने से ठेक की दूरी बस 100 मीटर के आसपास है। पुलिस से बस इतनी ही दूरी पर मौत का सामान तैयार किया जा रहा था। इलाके के लोगों की माने तो यह कारोबार आज से नहीं बल्कि पिछले 40 सालों से चल रहा था। कच्चा शराब मुख्य रूप से ट्रेन के रास्ते से यहां पहुंचता था।
बस्ती में ही बना रखा था शराब का ठेक : दरअलस गजानंद बस्ती के निकट ही रेल लाइन गुजरती है। इसके बाउंड्री के पीछे बामनगाछी स्टेशन है। उसी रास्ते से ट्रेन के जरिये जहरीली शराब बनाने का सामान मंगाया जाता था। हावड़ा के कैर्तव्यपाड़ा लेन का रहनेवाला प्रताप कर्मकार का यह पुराना कारोबार है। ये लोग यहां पर घर भाड़े पर लेकर जहरीली शराब तैयार करते थे। इलाके के लोगों का कहना है कि अक्सर यहां पर प्रताप नयी बस्ती का कमरा भाड़े पर लेकर चलाता था और वहां पर शराब तैयार करता था।
बढ़ गया था शराब की बिक्री का काला धंधा : इलाके में रहनेवाले सुनील सिंह का कहना है कि पिछले 3 से 4 दिनों में यहां से शराब की बिक्री बढ़ गयी थी। कई बार थाने को इसकी जानकारी देने की कोशिश की गयी लेकिन थाने से कोई रिस्पांस नहीं मिला। इलाके के लोगों का आरोप है कि पुलिस की शह पर इलाके में शराब का ठेक वर्षों से चल रहा है। कई बार पुलिस को जानकारी देने पर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। एक मृतक रंजीत गुप्ता की पत्नी छाया गुप्ता का आरोप है कि धर्मुतल्ला बाजार और गोपाल घोष लेन में वर्षों से अवैध रूप से शराब बेची जा रही है। शराब के व्यवसायी अपनी पहुंच का इस्तेमाल कर खुलेआम जहरीली शराब बेच रहे थे। पुलिस की नाक के नीचे सब चल रहा था और पुलिस सो रही थी। छाया का कहना है कि अब उसके पति की जान चली गयी। उन्होंने कई बार इसकी शिकायत थाने में दर्ज करायी है, मगर कोई कार्रवाई नहीं हुई।
क्या कहना है डीसी नार्थ का : डीसी नार्थ अनुपम सिंह ने बताया कि यहां पर इतने सालों से यह कारोबार हो रहा था लेकिन इलाके के किसी भी व्यक्ति ने इसकी शिकायत नहीं की। इस घटना के पीछे जो भी दोषी होगा उस कड़ी कार्रवाई होगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

अहिरीटोला घाट पर नदी में डूब रही महिला का उद्धार

कोलकाता : नॉर्थ पोर्ट थानांतर्गत अहिरीटोला घाट पर नदी में डूब रही महिला का पुलिस ने उद्धार किया है। घायल महिला को इलाज के लिए आगे पढ़ें »

ऊपर