‘शब्दाक्षर’ की पश्चिम बंगाल प्रदेश इकाई द्वारा ज़मीनी स्तर पर काव्यगोष्ठी का आयोजन

 शब्दाक्षर महाराष्ट्र की प्रदेश साहित्य मंत्री डॉ कनक लता तिवारी के सम्मान में आयोजित किया गया काव्य समारोह
कोलकाताः  साहित्यिक संस्था ‘शब्दाक्षर’ की पश्चिम बंगाल प्रदेश इकाई द्वारा ‘शब्दाक्षर’ महाराष्ट्र की प्रदेश साहित्य मंत्री डॉ कनक लता तिवारी के स्वागत तथा सम्मान में ज़मीनी स्तर पर काव्यगोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसकी अध्यक्षता शब्दाक्षर की राष्ट्रीय साहित्य मंत्री नीता अनामिका ने की। इस काव्यगोष्ठी का शुभारंभ राष्ट्रीय अध्यक्ष रवि प्रताप सिंह ने स्वागत वक्तव्य से किया। शब्दाक्षर के पश्चिम बंगाल अध्यक्ष राम प्रकाश सिंह ‘सावन’, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जय कुमार रुसवा, राष्ट्रीय सलाहकार ‘शब्दाक्षर’ तारक दत्त सिंह व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रो जीवन सिंह ने अतिथियों का स्वागत पुष्पगुच्छ प्रदान करके किया।
एक से बढ़कर एक कविताएं तथा ग़ज़लें
स्वागत सत्र के उपरांत आयोजित काव्य गोष्ठी में कवियों, कवियत्रियों ने एक से बढ़कर एक कविताएं तथा ग़ज़लें पढ़ीं। कवि नंदू बिहारी की गणेश वंदना तथा सरस्वती वंदना एवं शब्दाक्षर के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रो जीवन सिंह के बिहार तथा यूपी पर रचित भोजपुरी गीत सुनकर श्रोता मंत्र-मुग्ध हो गये। कवि गजेंद्र नाहटा की ‘दर्द को खुराक समझ कर पीता हूँ’, कवि हीरालाल साव की ‘हम दोनों साथ पले, साथ बढ़े, पर फर्क इतना था, वह जिंदगी की दौड़ में आगे निकल गया’, कवियत्री अंजू छारिया की गज़ल ‘हमें आवाज़ दे कर तुम पुकारो’ एवं पश्चिम बंगाल शब्दाक्षर के सचिव कृष्ण कुमार दूबे की ‘आँखों में कुछ नमी सी है’ पंक्तियों पर खूब वाहवाहियां लगीं। नीता अनामिका की ‘पुच्छल तारा’, रवि प्रताप सिंह की ‘राजनीति का मापदंड अपराध बन गया भारत में’ तथा डॉ कनक लता तिवारी के कृष्ण गीत तथा ग़जल ‘चाँद तुम्हारी बाट जोहता है’ ने समाँ बाँध डाला। त्रिलोकी नाथ के ‘शब्दाक्षर’ पर रचित ग़ज़ल तथा श्री ‘सावन’ की कविता ‘इंद्रधनुष को बेच रहा हूँ’ ने सभी के मन को आनंदित किया।
सभी का आभार व्यक्त किया
अपने अध्यक्षीय भाषण में नीता अनामिका ने ‘शब्दाक्षर’ के साहित्यिक लक्ष्यों पर प्रकाश डालते हुए संस्था के संस्थापक-सह राष्ट्रीय अध्यक्ष सिंह के प्रति आभार जताते हुए उपस्थित कवि/कवियत्रियों को कार्यक्रम के सफल आयोजन पर हार्दिक शुभकामनाओं सहित आभार व्यक्त किया। ‘शब्दाक्षर’ की राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ कुमारी रश्मि प्रियदर्शनी ने शब्दाक्षर की पश्चिम बंगाल प्रदेश इकाई द्वारा कोरोना संकट के दरम्यान ज़मीनी स्तर आयोजित इस सरस काव्यगोष्ठी की सफलता पर हार्दिक खुशी जताई तथा उन्होंने कहा कि ‘शब्दाक्षर’ की बिहार इकाई द्वारा भी शीघ्र ही ज़मीनी स्तर पर काव्यगोष्ठी का आयोजन प्रस्तावित है। ‘शब्दाक्षर’ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सत्येन्द्र सिंह ‘सत्य’ तथा राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष दया शंकर मिश्र के अनुसार शब्दाक्षर की अन्य प्रदेश इकाइयों द्वारा भी ऐसे ही मासिक काव्योत्सव आयोजित किए जाने हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

तृणमूल कांग्रेस का होगा दोबारा नामकरण !

पार्टी में चल रही चर्चा राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा रखती है तृणमूल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : तृणमूल कांग्रेस जल्द ही पार्टी का दोबारा नामकरण करने का विचार कर आगे पढ़ें »

ऊपर