ममता के गढ़ में पहुंचे पीएम मोदी, बोले- उत्तराखंड के लिए पूरा देश प्रार्थना कर रहा है

कोलकाता : पीएम नरेंद्र मोदी आज पश्चिम बंगाल के दौरे पर हैं। पीएम मोदी ने हल्दिया में आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए सबसे पहले उत्तराखंड में हुई त्रासदी की जानकारी लोगों के साथ साझा की और बताया कि मैं लगातार अपडेट ले रहा हूं। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के लिए पूरा देश प्रार्थना कर रहा है। 
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “अभी आपने न्यूज़ में देखा होगा कि इन दिनों भारत को बदनाम करने के लिए कैसे कैसे अंतरराष्ट्रीय षड्यंत्र सामने आ रहे हैं, कैसी कैसी अंतरराष्ट्रीय साज़िशें हो रही हैं। साजिश करने वालों की बेचैनी इतनी ज्यादा है कि भारत को बदनाम करने के लिए वो चाय से जुड़ी भारत की पहचान पर हमला करने की बात कह रहे हैं। टी वर्कर्स की कड़ी मेहनत पर हमला करने का षड्यंत्र किया जा रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा कि बंगाल में आप दीदी से अपने अधिकार की बात पूछ देंगे तो वो नाराज हो जाती हैं। यहां तक कि भारत माता की जय के नारे लगा दो, तो भी वो नाराज हो जाती हैं लेकिन देश के खिलाफ बोलने वाले कितना भी जहर उगल दें, दीदी को गुस्सा नहीं आता। साथ ही कहा कि बंगाल पहले से जितना आगे था, अगर बीते दशकों में उसकी वो गति और बढ़ी होती, तो आज बंगाल कहां से कहां पहुंच गया होता। आज यहां जितने भी उद्योग हैं, जितना भी कारोबार है, जितना भी इंफ्रास्ट्रक्चर है, वो बदलाव चाहते हैं, आधुनिकता चाहते हैं लेकिन आप सोचिए, बीते 10 सालों में यहां की सरकार ने कितनी फैक्ट्रियों का शिलान्यास या उद्घाटन किया? उस बड़े स्टील प्लांट का क्या हुआ जो यहां की अराजक व्यवस्थाओं के कारण शुरु ही नहीं हो सका? पश्चिम बंगाल की इस स्थिति का सबसे बड़ा कारण है यहां की राजनीति। आजादी के बाद जब पश्चिम बंगाल के विकास को नई दिशा देने की जरूरत थी तब यहां विकास वाली राजनीति नहीं हो पाई।”
शेयर करें

मुख्य समाचार

धन वृद्धि के लिए एक कटोरी पानी का टोटका जरूर अपनाए !

कोलकाता : घर में काम आने वाली छोटी-छोटी चीजें ऐसी होती हैं जिनसे घर में सुख-समृद्धि आती है। ये चीजें बड़े काम की हैं, इनके आगे पढ़ें »

माघ पूर्णिमाः अच्छी किस्मत के लिए आज करें ये काम, घर आएंगी खुशियां

कोलकाताः हिन्दू धर्म में पूर्णिमा तिथि का विशेष महत्व होता है। कहा जाता है कि इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करने, दान और ध्यान आगे पढ़ें »

ऊपर