2 लाख 30 हजार जूट मिल श्रमिकों का पीएफ अकाउंट आधार से लिंक नहीं

केंद्र के निर्देश के बाद सोमवार से शुरु होगा लिंक अभियान
राज्य ने 30 नंवबर तक का समय मांगा, 31 अगस्त तक करना था लिंक
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : आधार की उपयोगिता हर क्षेत्र में अनिवार्य हो गयी है। पीएफ के साथ भी आधार का लिंक जरूरी है जिसके लिए केंद्र की तरफ से राज्य सरकार को निर्देश दिया गया है कि वे यहां समस्त कारखानों में कार्यरत श्रमिकों के पीएफ खाते को आधार के साथ लिंक करवाएं क्योंकि यहा प्रक्रिया मंदी पड़ी हुई है। इसे लेकर राज्य के श्रम मंत्री बेचाराम मन्ना ने सन्मार्ग को बताया कि जूटमिलों के श्रमिकों का पीएफ अब तक आधार के साथ लिंक नहीं है, केंद्र के निर्देश को मानते हुए सोमवार से लिंक की प्रक्रिया शुरु होने जा रही है।
हावड़ा चेंगाई जूटमिल से होगी शुरुआत
मंत्री ने बताया कि सोमवार को हावड़ा के उलुबेड़िया स्थित चेंगाई जूटमिल से यह प्रक्रिया शुरु होने जा रही है। इसी तरह बाकी जूटमिलों में भी यह प्रक्रिया पूरी होगी। इसके लिए जूटीमिल और श्रम विभाग के लोग मिलकर काम करेंगे।
69 कैंप, 3 महीनों में पूरा करना है टार्गेट
इस प्रक्रिया के कुल 69 कैंप लगेंगे जहां रोजाना पीएफ के साथ आधार का लिंक किया जाएगा। इसके लिए 3 महीनों का टार्गेट रखा गया है क्योंकि समस्या सिर्फ पीएफ के साथ आधार लिंक का नहीं है बल्कि कई श्रमिकों के पीएफ अकांउट में कुछ त्रुटियां है जिसे ठीक करने में वक्त लगता है।
कोविड के वजह से हो रही देरी
मंत्री बेचाराम ने बताया कि इस प्रक्रिया को 31 अगस्त तक पूरा करना था लेकिन कोविड के कारण इसे पूरा नहीं किया जा सका। बाकी विभागों में तो काम हो रहा है लेकिन जूटमिलों में यह अब तक शुरु भी नहीं हुआ है। इसलिए केंद्र को दो दिन पहले ही राज्य की तरफ से चिट्ठी भेजी गयी है जिसमें 30 नवंबर तक का समय मांगा गया है।
एक नजर जूटमिलों पर
यहां कुल 69 जूट मिलों में करीब 2 लाख 30 हजार जूट श्रमिक है। इनमें से करीब 10 प्रतिशत श्रमिकों का आधार कार्ड भी नहीं है जिसे इसी समयसीमा में बनवाना होगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

पैसों की तंगी से बचने के लिए करें आटे के ये उपाय, होगी मां लक्ष्मी की कृपा

कोलकाता : पैसे-रुपये और तरक्की भला किसे पसंद नहीं होती, लेकिन कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जिनके हाथ में पैसे टिकते ही नहीं। पैसे आगे पढ़ें »

ऊपर