नये जिलों से लोगों को होगी सुविधाएं, प्रशासनिक काम में आयेगी तेजी

* उत्तर 24 परगना, दक्षिण 24 परगना, मुर्शिदाबाद व नदिया के लाखों लोगों को मिलेगा लाभ
* बंगाल में लंबे समय से नये जिलों के गठन की मांग
* बढ़ेगी प्रशासनिक अधिकारियों की संख्या भी
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : उत्तर 24 परगना, दक्षिण 24 परगना, मुर्शिदाबाद व नदिया के लाखों लोगों के लिए सरकार बड़ी राहत देने जा रही है। लोगों को जल्द व सीधे तौर पर प्रशासनिक सेवाएं मिल सकें तथा प्रशासनिक काम में तेजी और आए इस उद्देश्य से राज्य में नये 7 और जिले होंगे। इससे पहले भी मुख्यमंत्री ने 4 नये जिले बनाये हैं। इस बार मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य के सात और जिलों के नामों की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रशासनिक कार्यों में तेजी लाने और कामों को सुगम बनाने के लिए राज्य में सात नए जिले बनाए जा रहे हैं। नये जिलों में बहरमपुर, कांदी, सुंदरवन, बशीरहाट, इच्छामती, रानाघाट और विष्णुपुर शामिल होंगे, जिसके बाद राज्य में जिलों की कुल संख्या बढ़कर 30 हो जाएगी। बशीरहाट का बाद में नामकरण होगा।
नये जिलों के गठन से क्या फायदे
नवान्न में एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि प्रशासनिक कामकाज को बेहतर करने के लिए नये जिले तैयार करने का फैसला लिया गया है। जैसा कि उत्तर 24 परगना में सबसे ज्यादा आबादी है। सबसे बड़ा जिला है। जैसा कि अभी बारासात में सभी प्रशासनिक मुख्यालय हैं। जिलों के विभिन्न जगहों से यहां तक आने के लिए लंबी दूरी लोगों को तय करनी पड़ रही है। अब इच्छामती जिला होने से लोगों को प्रशासनिक काम के लिए फायदा होगा। इसी तरह से नदिया में रानाघाट, बांकुड़ा में विष्णुपुर तथा मुर्शिदाबाद के लोगों को भी फायदा होगा।
इस समीकरण पर भी चर्चा
वहीं दूसरी ओर इस पर भी चर्चा तेज है कि राजनीतिज्ञों का मानना है कि नए जिले बनाकर क्षेत्रीय अस्मिता को भी भुनाने का प्रयास किया गया है। हालांकि राज्य में काफी समय से नये जिलों के गठन की मांग थी।
सरकार ने पहले ही चार नये जिले बनाये
तृणमूल कांग्रेस 2011 में सत्ता में आयी। वाममोर्चा कार्यकाल में बंगाल में 19 जिले थे। ममता सरकार आने के बाद चार और नये जिले बनाये गये। ऐसे में जिलों की संख्या बढ़कर 23 हो गयी। जो चार नये जिले बने वे हैं – पश्चिम मिदनापुर को बांटकर एक और नया जिला झाड़ग्राम का गठन किया गया। दार्जिलिंग को बांटकर कलिम्पोंग, जलपाईगुड़ी को बांटकर अलीपुरदुआर तथा बर्दवान जिले को बांटकर पूर्व बर्दवान व पश्चिम बर्दवान जिला बनाया गया। यहां बता दें कि बर्दवान का नामकरण पूर्व बर्दवान हुआ है, पश्चिम बर्दवान नया जिला बना।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

कल राज्य के इन पुलिसकर्मियों को सीएम ममता करेंगी सम्मानित

कोलकाताः कल स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर राज्य के 11 पुलिकर्मियों को सम्मानित करेंगी मुख्यमंत्री ममता बनर्जी। 11 पुलिसकर्मियों की सूचि पर डालें एक नजर। आगे पढ़ें »

ऊपर