पुलिस कर्मी बनकर लोगों का अपहरण कर लूटते थे रुपये

स्कॉर्पियो कार के जरिए करते थे अपहरण
गिरोह के तीन सदस्य शोभाबाजार इलाके से गिरफ्तार
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : खुद को पुलिस कर्मी बताकर लोगों का अपहरण कर चलती कार में उनसे रुपये लूटने वाले गिरोह का पुलिस ने भंडाफोड़ किया है। घटना बड़तल्ला थानांतर्गत विधान सरणी इलाके की है। पुलिस ने मामले में गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया है। अभियुक्तों के नाम मनोज दास, सूरज और शाहबान बताये गये हैं। उनके पास से एक स्कॉर्पियो कार भी जब्त की गयी है। पुलिस के अनुसार उक्त कार के जरिए ही अभियुक्त लोगों का अपहरण करते थे।
क्या है पूरा मामला
पुलिस के अनुसार कुछ दिनों पहले अनिद्य सिंह राय ने एक स्कॉर्पियो कार के ड्राइवर और उसमें सवार युवकों पर पुलिस कर्मी बनकर उनसे लूटपाट करने की शिकायत
दर्ज करायी थी। अनिंद्य ने अपनी शिकायत में बताया कि 8 मई की देर रात 2.50 बजे जब वह विधान सरणी से गुजर रहा था तभी स्टार थियेटर के पास एक स्कॉर्पियो कार उसके पास आकर रुकी। इस दौरान कार का ड्राइवर सहित 4 लोग नीचे उतरे और खुद को पुल‌िस कर्मी बताकर उसे जबरन कार में बैठा लिया। आरोप है कि कार में बैठाने के बाद अभियुक्तों ने उससे मारपीट की और फिर चाकू की नोक पर उसके पास से 8 हजार रुपये नकद सहित अन्य सामान लूट लिए। लूटपाट करने के बाद उसे कार से नीचे उतार दिया। अनिंद्य की शिकायत के आधार पर पुलिस ने मामले की जांच शुरू की। मामले की जांच के दौरान पुलिस ने इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज को खंगालकर अभियुक्तों को चिन्हित कर उन्हें जे.एम एवेन्यू व एरविंद सरणी क्रॉसिंग से पकड़ा। पुलिस ने अभियुक्तों से प्राथमिक पूछताछ में पाया कि पिछले एक महीने में उन्होंने इस तरह से मध्य व उत्तर कोलकाता के विभिन्न इलाकों में ऐसी घटनाओं को अंजाम दिया है। रविवार को तीनों अभियुक्तों को पुलिस ने अदालत में पेश किया जहां से उन्हें 29 मई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बड़ी खबर : बंगाल में एक दिन में कोविड से 58 की मौत, 2788 नए मामले

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः राज्य में कोरोना वायरस का ग्राफ और नीचे आया है। अब एक दिन में कोरोना वायरस के संक्रमण से 2788 नए मामले सामने आगे पढ़ें »

लोकप्रियता के टॉप पर मोदी : दुनिया के 13 देशों के नेताओं में टॉपर

वॉशिंगटन : कोरोना महामारी की दूसरी लहर और भारत में उसके बुरे प्रभाव के बाद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता कायम है। अमेरिकी डेटा आगे पढ़ें »

ऊपर