घरों में आवश्यक दवाओं का स्टॉक रख रहे लोग

  • मांग व आपूर्ति में अंतर बढ़ने के आसार
  • दवा विक्रेताओं की चिंता बढ़ी

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः कोरोना वायरस के सेकेंड वेव में कई समस्याएं बढ़ी हैं। देखा जा रहा है कि अस्पतालों में आइसीयू और ऑक्सीजन बेड की कमी नजर आ रही थी। अब एक समस्या और हो रही है कि मरीजों को जरूरी दवाईयां भी समय पर नहीं मिल पा रही हैं। अस्पतालों में जगह नहीं मिलने से बड़ी संख्या में कोरोना वायरस के मरीज होम आइसोलेट हैं। ऐसे में घर पर रहते हुए जांच व उपचार के लिए आवश्यक पल्स ऑक्सीमीटर, ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर जैसे उपकरण भी इन दिनों बाजार में ढूंढे नहीं मिल रहे हैं। कुछ जरूरी दवाइयों की किल्लत भी दवा विक्रेताओं के लिए सिरदर्द सी बन गई है। ऑक्सीजन के लिए भी लोग इधर-उधर दौड़ भाग करते नजर आ रहे हैं।
धनवंतरी समूह के एमडी राजेन्द्र खंडेलवाल ने कहा कि आम लोगों में कोरोना वायरस के सेकेंड वेव को लेकर काफी भय है। हालांकि जरूरी दवाओं के स्टॉक लोग घरों में क्यों कर रहे हैं, यह समझ से परे है। आलय यह है कि थर्मीमीटर तक जल्दी मिलना कई जगहों पर मुश्किल हो रहा है।
प्रोजेक्ट ब्रीथ से बढ़ाया मदद का हाथ
राजेन्द्र खंडेलवाल ने कहा कि प्रोजेक्ट ब्रिथ के माध्यम से कुछ स्वयंसेवी संगठनों के साथ मिलकर एक फोन पर आवश्यक मरीजों को ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर हम उपलब्ध करवा रहे हैं। इसके लिए काफी मांग बढ़ी है।
सस्ता सुंदर.कॉम के संस्थापक बी.एल. मित्तल ने कहा कि हाल के दिनों में हैण्ड सैनिटाइजर, मास्क की मांग पिछले साल की अपेक्षा कम नजर आ रही है। देखा जा रहा है कि दवाओं की बिक्री बढ़ी है। जरूरत है कि लोग बचाव के साधन अधिक रखें, हालांकि दवाएं लोग स्टॉक करके रख रहे हैं।
बाजार से ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर मिलने में भी आ रही दिक्कत
देखा जा रहा है कि बाजार में ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर भी नदारद है। यह मशीन सामान्य हवा से ही ऑक्सीजन को पृथक करने में कारगर है। इसका उपयोग कोरोना संक्रमित मरीज का ऑक्सीजन लेवल कम होने पर घर में उपयोग करने के लिए किया जाता है। हालांकि अचानक यह मशीन बाजार में कम ही उपलब्ध है। कोरोना वायरस के मरीज का ऑक्सीजन लेवल जांचने के लिए जरुरी है पल्स ऑक्सीमीटर। देखा जाता था कि पहले आठ सौ से नौ सौ रुपए में यह आसानी से मिलता था। हालांकि फिलहाल यह बाजार से गायब सा नजर आ रहा है। आलम यह है कि लोगों को काफी ढूंढने पर ही बमुश्किल यह मिल पा रहा है। वहीं लोगों का कहना है कि दुकानदार इसकी कीमत दो से ढाई हजार रुपए के बीच ले रहे हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अवैध संबंध की दर्दनाक सजा, नाले में घुसकर हत्याकांड को अंजाम

नागपुर: इश्क और मुश्क छिपाए नहीं छिपती और इसका नतीजा भी घातक ही होता है। महाराष्ट्र के नागपुर से एक ऐसी खबर सामने आई जो आगे पढ़ें »

विजय माल्या, नीरव मोदी, मेहुल चौकसी की जब्त 9,371 करोड़ की संपत्ति बैंकों को किए गए ट्रांसफर

नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 23 जून को कहा कि उसने भगोड़े अरबपतियों विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चौकसी से जुड़े मामलों में आगे पढ़ें »

ऊपर