पासपोर्ट की फर्जी वेबसाइट के जरिए लोगों से हो रही है ठगी-विभूति भूषण कुमार

वर्ष 2020 में 3.25 लाख नए पासपोर्ट बनाए गए
कोलकाता : साइबर जालसाजों की नजर से अब पासपोर्ट विभाग की वेबसाइट भी अछूती नहीं रह गयी है। साइबर जालसाज अब पासपोर्ट विभाग की फर्जी वेबसाइट बनाकर सैकड़ों लोगों को रोजाना ठग रहे हैं। इसकी जानकारी गुरुवार को रिजनल पासपोर्ट अधिकारी विभूति भूषण कुमार ने दी। उन्होंने बताया कि वेब पर 8 फर्जी वेबसाइट उनकी नजर में आयी है। इन वेबसाइट्स के जरिए पासपोर्ट बनाने के लिए आवेदन करने वाले आम नागरिकों को ठगी का शिकार बनाया जा रहा है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि वे ऑनलाइन आवेदन करते वक्त सा‍वधानी बरतें। इसके अलावा उन्होंने बताया कि पासपोर्ट आवेदकों की सुविधा के लिए विभाग की ओर से ऑनलाइन कई बदलाव किए गए हैं। ऑनलाइन आवेदन करने पर लोगों को डिजी लॉकर एसेस देने का ऑप्शन मिलेगा। अगर व्यक्ति अपने डॉक्यमूेंट को डिजी लॉकर के जरिए पासपोर्ट विभाग को एसेस देता है तो इंयरव्यू के समय उसे ऑरिजनल दस्तावेज लाने की जरूरत नहीं होगी। रिजनल पासपोर्ट अधिकारी ने बताया कि वर्ष 2020 में उनके विभाग ने 3.25 लाख नए पासपोर्ट जारी किए हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस वेरिफिकेशन में काफी देरी हो रही है। पासपोर्ट विभाग के अनुरोध के बावजूद अभी तक सिर्फ विधाननगर और कोलकाता पुलिस द्वारा ही टैब के जरिए पासपोर्ट वेरिफिकेशन का कार्य हो रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य में सबसे ज्यादा जलपाईगुड़ी जिले की पुलिस 87 दिन औसतन पासपोर्ट वेरिफिकेशन में लगाती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ममता बनर्जी के टीएमसी को प्रचार के लिए गुजरात से मिल रही मदद, जानें पूरा मामला

कोलकाताः पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक दल तैयारियां शुरू कर चुकी हैं। सबकी नजर इस बार पश्चिम बंगाल में होने आगे पढ़ें »

मंगलवार के दिन ये 6 काम करना होता है बड़ा ही अमंगलकारी

कोलकाताः पवनपुत्र हनुमान हर समस्या से अपने भक्तों को बचाते हैं। ज्योतिष के अनुसार, मंगलवार के दिन इनके पूजा करने से इंसान के सभी भौतिक आगे पढ़ें »

ऊपर