ऑक्सीजन के लिए तड़प रहे मरीज, उखड़ रही सांसें

हर जगह एक ही जवाब ऑक्सीजन उपलब्ध नहीं
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः देश के अन्य हिस्सों के साथ ही अब राज्य की स्थिति भी गंभीर हो चली है। ऑक्सीजन की कमी के कारण मरीजों की सांसें उखड़ रही हैं। मरीज तड़प रहे हैं। स्वजन बिलख रहे हैं, लेकिन अस्पतालों में उन्होंने बेड तक नसीब नहीं हो रहा है। वहीं जिन मरीजों को बेड मिल भी जा रहा है, उन्हें आक्सीजन या वेंटिलेटर नहीं मिल पा रहा है। इसकी साफ वजह है कि, ऑक्सीजन की हर जगह कमी है। अस्पतालों से कोविड या कोविड के लक्षण वाले मरीज या परिजन को सिर्फ एक ही जवाब मिल रहा है, ऑक्सीजन उपलब्ध नहीं है।
खुद ऑक्सीजन सिलिंडर की व्यवस्था करने में भी हाथ लग रही निराशा
आशा की किरण मरीजों को दिखाई नहीं दे रही है। एक तरफ परिजन का ऑक्सीजन लेवल कम होता जा रहा है, दूसरी तरफ ऑक्सीजन की उपलब्धता नहीं हो पा रही है। आलम यह है कि कोविड मरीज के परिजनों को खुद ऑक्सीजन सिलिंडर की व्यवस्था करनी पड़ रही है। इसके बाद ही अस्पतालों में उन्हें भर्ती मिल रही है। दूसरी तरफ सरकार का दावा है कि ऑक्सीजन की कमी राज्य में नहीं है।
10 को ऑक्सीजन की जरूरत, मिल रहा एक को ही
देखा जा रहा है कि महानगर व आस-पास के कई क्षेत्रों में अभी से कई लोग अपने परिजनों की गंभीर हालत को लेकर परेशान हैं। वरिष्ठ फीजिशियन डॉ. एस.के. सोंथलिया ने कहा कि अस्पताल में जब मरीजों को भर्ती करने के बारे में बात की जा रही है तो बेड देने से साफ इंकार कर दिया जा रहा है। स्थिति काफी भयावह है। अस्पतालों में बेड नहीं है। दरअसल कई डॉक्टरों का कहना है कि हमारे पास ऑक्सीजन नहीं है। दस को ऑक्सीजन और इंजेक्शन चाहिए तो एक को ही फिलहाल हम दे पा रहे हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

20 जुलाई को माध्यमिक व 25-30 के भीतर उच्चमाध्यमिक ​रिजल्ट

कोलकाता : 20 जुलाई को माध्यमिक व 25 को उच्चमाध्यमिक का रिजल्ट आ सकता है। शिक्षा विभाग के आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक सीबीएसई बोर्ड की आगे पढ़ें »

डेंगू के खात्मे के लिए अकेले लड़ रहा राज्य

हर साल राज्य में 700 करोड़ रुपये खर्च होता है ‌डेंगू नियंत्रण पर सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः डेंगू को खत्म करने के लिए राज्य अकेले ही लड़ रहा आगे पढ़ें »

ऊपर