पैक्ड फूड व ग्रेंस होंगे महंगे, आम जनता की टूटेगी कमर

आटा, दाल, चावल, बटर, पनीर, मांस, मछली, मिक्सचर, सूजी, मैदा, डब्बा बंद लस्सी
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : जीएसटी काउंसिल द्वारा हाल में पैक्ड खाद्यान्नों काे जीएसटी के दायरे में लाये ​जाने की बात कही गयी है जिसे लेकर व्यवसायियों में रोष है। इस मुद्दे पर फेडरेशन ऑफ चेम्बर्स ऑफ कॉमर्स एण्ड इण्डस्ट्रीज ऑफ ईस्टर्न इंडिया की ओर से केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को एक पत्र भेजा गया है जिसमें मांग की गयी है कि पैक्ड फूड सहित सभी खाद्य पदार्थों पर जीएसटी के निर्णय को वापस लिया जाये। कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि इस मुद्दे पर देश के सभी राज्यों के वित्तमंत्रियों को उनके राज्य के खाद्यान एवं अन्य वस्तुओं के व्यापारी एक ज्ञापन देकर इस निर्णय को वापस लेने की मांग करेंगे।
ये चीजें हो जाएंगी महंगी
मांस, मछली, दही, पनीर और शहद जैसी पहले से पैक और लेबल वाले खाद्य पदार्थों पर अब 5% जीएसटी लगेगा। आटा, दाल और चावल जैसी गैर-ब्रांडेड वस्तुओं पर 5% जीएसटी लगेगा, यदि वे पहले से पैक और लेबल किए गए हैं। वर्तमान में, इन वस्तुओं के केवल ब्रांडेड संस्करणों पर 5% जीएसटी लगता है। सूखी फलियां सब्जियां, सूखे मखाना, गेहूं और अन्य अनाज, गेहूं या मेसलिन का आटा, गुड़, मुरमुरा (मुरी), सभी सामान और जैविक खाद और कॉयर पिठ खाद पर अब 5% जीएसटी लगेगा।
आखिरकार असर पड़ेगा आम जनता पर
फेडरेशन ऑफ चेम्बर्स ऑफ कॉमर्स एण्ड इण्डस्ट्रीज ऑफ ईस्टर्न इंडिया के प्रेसिडेंट गोपाल खोरिया ने सन्मार्ग को बताया, ‘प्री पैक्ड व प्री लेबल्ड खाद्यान्नों पर जीएसटी का असर लगभग 90% जनता पर पड़ेगा। चावल, दाल, आटा जैसी चीजें महंगी हो जाएंगी। पहले बड़ी कंपनियों के रजिस्टर्ड ब्रांड पर ही 5% जीएसटी लगता था, लेकिन अब सभी प्री-पैक्ड व प्री-लेबल्ड खाद्यान्नों पर जीएसटी लगेगा। बड़ी कंपनियां 20% प्रीमियम जनता से लेती हैं जिसमें से 5% जीएसटी केंद्र को देती थीं। हालांकि 90% छोटी कंपनियों पर भी अब जीएसटी लगेगा। आजादी के बाद पहली बार ऐसा होगा कि दाल, चावल, आटा जैसी जरूरत की चीजों के लिए भी जीएसटी देना पड़ेगा। देश भर के लगभग 50 हजार करोड़ उपभोक्ताओं पर इसका असर पड़ेगा।’
इधर, एमसीसीआई (मर्चेंट्स चेम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इण्डस्ट्री) के प्रेसिडेंट ऋषभ सी. कोठारी ने बताया, ‘पहले खाद्यान्नों पर जीएसटी नहीं लगती थी, लेकिन अब लगेगी। ऐसे में निश्चित तौर पर खाद्यान्न महंगे हो जाएंगे जिसका असर उपभोक्ताओं पर पड़ेगा।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

पीवी सिंधु ने रचा इतिहास, भारत को दिलाया गोल्ड

बर्मिंघमः कॉमनवेल्थ गेम्स में भारतीय प्लेयर्स बहुत ही शानदार खेल दिखा रहे हैं। ओलंपिक में भारत के लिए दो मेडल जीतने वाली बैडमिंटन स्टार पीवी आगे पढ़ें »

ऊपर