प्रतिमा विसर्जन के बाबत एनजीटी के सख्त आदेश

इस बाबत जारी गाइड लाइन पर अमल करना पड़ेगा
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : प्रतिमा विसर्जन के मामले में नेशनल ग्रीन ट्राइब्यूनल (एनजीटी) ने एक एक्शन प्लान बनाया है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण पर्षद की गाइड लाइन और इस बाबत विभिन्न समयों पर दिए गए एनजीटी के आदेश के मद्देनजर यह कार्ययोजना बनायी गई है। सभी पूजा कमेटियों को इस पर सख्ती के साथ अमल करना पड़ेगा। गंगा और अन्य वाटर बॉडिज को प्रदूषण से बचाने के लिहाज से यह फैसला लिया गया है।
एडवोकेट अमृता पांडे ने यह जानकारी देते हुए बताया कि प्रशासन और पुलिस उन घाटों की पहचान करेगी जहां प्रतिमाओं का विसर्जन किया जाना है। प्रत्येक प्रतिमा का विसर्जन निर्धारित समयसीमा के अंदर ही करना पड़ेगा जिसे प्रशासन और पुलिस ने तय कर दिया है। विसर्जन के लिए निर्धारित प्रत्येक घाट पर ठोस कचरे मसलन फूल, कपड़े और सजावट के अन्य सामान एक अलग स्थान पर एकत्र किए जाएंगे और उन्हें लारी या ट्रक से 24 घंटे के अंदर डंपिंग ग्राउंड में डालना पड़ेगा। सभी प्रमुख घाटों पर क्रेन, पैंटूम और बार्ज की व्यवस्था करनी पड़ेगी। प्रतिमा के विसर्जन के बाद उसे नदी से बाहर निकाल लेना पड़ेगा। इसके अलावा प्रतिमा के विसर्जन से पहले प्लास्टिक आदि के जो सरोसामान हैं उन्हें अलग कर लेना पड़ेगा। एडवोकेट पांडे ने बताया कि प्रत्येक पूजा कमेटी को एक घोषणापत्र देना पड़ा है जिसमें कहा गया है कि प्रतिमा के निर्माण में पीओपी और डाई एवं केमिकल रंगों का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बांग्लादेश में हिन्दुओं पर हिंसा के खिलाफ इस्कॉन का 150 देशों में प्रदर्शन

काेलकाता : बांग्लादेश में हिन्दुओं पर ​हिंसा के विरोध में शनिवार को इस्कॉन कोलकाता व मायापुर में इस्कॉन भक्तों द्वारा प्रदर्शन किया गया। इसके साथ आगे पढ़ें »

ऊपर