हावड़ा में सीसीटीवी के रखरखाव में है लापरवाही

सीसीटीवी के मेंटेनेंस के लिए नयी निजी कंपनी
यह एक ऑनगोइंग प्रोसेस है : सीपी
कई इलाकों में लगाये जायेंगे सीसीटीवी

मेघा सुरोलिया
हावड़ा : किसी भी प्रकार की कोई घटना व दुर्घटना होते ही पुलिस या जांच एजेंसियां अक्सर सीसीटीवी पर ही निर्भर होती हैं। इसके जरिये ही कई केस साॅल्व भी कर दिये जाते हैं, लेकिन जब सीसीटीवी ही खराब हों तो इस डिजी वर्ल्ड में केस को सॉल्व करना कई गुना मुश्किल हो सकता है। हालांकि पुलिस अधिकारी का कहना है कि यह एक ऑनगोइंग प्रोसेस है। यहां पर एक सीसीटीवी खराब होते हैं तो दूसरा ठीक होता है। पर सवाल यहां यह खड़ा होता है कि हावड़ा के अधिकांश सीसीटीवी एक साथ कैसे खराब हो सकते हैं। देखा जाये तो सीसीटीवी के रखरखाव में लापरवाही बरती जाती है। हावड़ा सिटी पुलिस के इलाकों की बात करें तो यहां लगे कई सीसीटीवी अक्सर खराब नजर आते हैं। खासकर जहां पर प्रशासनिक भवन नवान्न मौजूद है, यहां पर अगर कैमरा खराब रहे तो वह सुरक्षा के नजरिये से बड़ा सवाल है। यह बात तब सामने आयी जब हावड़ा सिटी पुलिस दो मामलों को सुलझाने के लिए सीसीटीवी की मदद ली। एक नवान्न के निकट द्वितीय हुगली सेतु पर मिले एक शव की गुत्थी सुलझाने एवं दूसरा काजीपाड़ा इलाके में फैली बम की अफवाह के मामले के लिए सीसीटीवी की जांच करने पहुंची तो जानकारी मिली कि सीसीटीवी ही खराब है। ऐसे में उक्त शव कैसे वहां पहुंचा और आखिरकार उस व्यक्ति के साथ क्या हुआ था, यह सारी बातें पता कर पाना मुश्किल हो गया। हालांकि हावड़ा सिटी पुलिस ने चक्रवात के कारण क्षतिग्रस्त हुए सभी सीसीटीवी कैमरों की मरम्मत के लिए कदम उठाए थे। विभाग द्वारा नामित एजेंसियों के अलावा कुछ निजी एजेंसियां ​​भी इस काम में शामिल हुई थीं।
विभिन्न दुराचार की गतिविधियों की जांच में उपयोगी : हावड़ा सिटी पुलिस सूत्रों के मुताबिक, सड़कों पर लगे अधिकांश कैमरों के रखरखाव की जिम्मेदारी स्थानीय थाना की है। ये सड़क दुर्घटनाओं से लेकर विभिन्न दुराचार की गतिविधियों की जांच में उपयोगी हैं। इसके अलावा, इन कैमरों का उपयोग पूजा के दौरान भीड़ को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है।
बारिश व तूफान की वजह से अक्सर होते हैं खराब : हावड़ा सिटी पुलिस के ट्रैफिक विभाग के सूत्रों के अनुसार, कैमरों के ठीक होने के बावजूद अक्सर आनेवाले चक्रवात व तूफान एवं बारिश से कैमरों में पानी भर जाता है और वे खराब हो जाते हैं। सबसे ज्यादा नुकसान राष्ट्रीय राजमार्ग पर कैमरों के खराब होने से होता है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, कुछ कैमरे फट गए हैं। कुछ कैमरे पानी की वजह से खराब हो गए हैं। यही हाल कोना एक्सप्रेस-वे, निसानी, निब्रा में लगे सीसीटीवी कैमरों का है। पुलिस के अनुसार कुछ निजी कंपनियों को भी कैमरों की मरम्मत के लिए कहा गया है। राज्य परिवहन विभाग ने हावड़ा कमिश्नरेट क्षेत्र में विभिन्न सड़कों पर कैमरे लगाने के लिए टेंडर जारी किया और धन आवंटित किया है।
सैकड़ों कैमरे लगाने की योजना : पुलिस सूत्रों के अनुसार हावड़ा सिटी पुलिस क्षेत्र में विभिन्न प्रमुख और छोटी सड़कों पर करीब सैकड़ों कैमरे लगाने की योजना है। लिलुआ और बाली जैसे कई क्षेत्रों की गलियों में कुछ कैमरे लगाने की भी योजना है। पुलिस के अनुसार, हाल ही में बिजली गिरने से हावड़ा स्टेशन, हावड़ा ब्रिज और गोलाबाड़ी इलाके में कई कैमरे क्षतिग्रस्त हो गए। इससे ट्रैफिक कंट्रोल में दिक्कत हो रही है।
क्या कहा पुलिस अधीक्षक ने : इस बारे में हावड़ा सिटी पुलिस के अधीक्षक सी. सुधाकर ने कहा कि सीसीटीवी ठीक होना और फिर खराब हो जाना और फिर से ठीक करवाना, यह ऑन गोइंग प्रोसेस है। जो भी कैमरे खराब होते हैं, उनकी मरम्मत करवायी जाती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

पानीहाटी में तृणमूल कार्यालय पर बमबारी

पानीहाटी : खड़दह थाना अंतर्गत पानीहाटी के एंजेल नगर इलाके में कुछ समाज विरोधियों ने पहले बमबारी की। इसके बाद बीटी रोड मातारंगी भवन नामक आगे पढ़ें »

ऊपर