आक्रमण के डर से बर्दवान से भागकर 40 परिवार पहुंचा नदिया

तृणमूल पर लगाया भयंकर हिंसा करने का आरोप
पुलिस पर भी लगा है उदासीनता का आरोप
नदियाः विधानसभा मतदान परिणाम आने के बाद से राज्य में राजनीतिक हिंसा का दौर जारी है। सत्ताधारी पार्टी के आक्रमण के डर से बर्दवान जिला के कालना थाना अंतर्गत उदयगंज से 40-50 परिवार अपना घर छोड़कर नदिया जिले के शांतिपुर थाना के गयेसपुर में आश्रय लेने पहुंचा है। उनका दावा है कि सभी परिवार भाजपा के समर्थक हैं। रिजल्ट घोषणा होने के बाद से ही सत्ताधारी पार्टी के लोग गांव में घुसकर बवाल मचा रहे हैं। भाजपाईयों के घर-घर जाकर वे भयंकर खेला होने की धमकी दे रहे हैं। उनका आरोप है कि किसी बड़ी अप्रिय घटना को अंजाम देने के लिए बवाल मचानेवालों ने भाजपा प्रभावित अंचल का पूरी रात घेरावकर रखा था। रात तीन बजे मौका पाकर वे अपना घर, मवेशी, अनाज सब कुछ जैसे-तैसे छोड़कर गांव से भाग निकले। गोद में बच्चा को लेकर भागी महिला पूर्णिमा सरकार ने बताया कि बीती रात 8 बजे से तृणमूल के गुंडों ने हंगामा शुरु किया। घर के बाहर खड़ी बाईक, ट्रैक्टर को लाठी से पीटकर तोड़ा गया। सामने पड़ने वाले पुरुषों के संग मारपीट की गयी। युवा महिलाओं को खुले मैदान में लेकर पूरी रात भयंकर खेला होबे की धमकी दी गई। उठा ले जाने के उद्देश्य से लड़कियों का हाथ पकड़कर खींचा गया, इससे डरकर वे सभी भागे हैं। कार्तिक चंद्र मल्लिक का आरोप है कि हंगामा के समय कालना थाना को कई बार फोन किया गया पर दूसरी ओर से फोन नहीं उठाया गया। एक और भाजपा कर्मी पंकज मल्लिक का आरोप है कि उनके गांव में सुबह से भाजपाईयों के घर में लूटपाट मचाया जा रहा है, उनसे सहानभूति रखनेवाले कुछ ग्रामीणों ने फोन से यह सूचना दी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

टीएमसी के इन नेताओं के खिलाफ राज्यपाल ने सीबीआई केस चलाने की दी इजाजत

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की सरकार बनते ही मुख्यमंत्री और राज्यपाल में ठन गई है। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने टीएमसी के चार नेताओं के आगे पढ़ें »

गुड न्यूजः चार राज्यों में कोरोना से पिछले 24 घंटे में नहीं गई किसी की जान

नई दिल्लीः देश में कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप चरम पर है। पिछले 24 घंटे में 4,03,738 नए मामले सामने आए हैं,​ जिनमें 10 आगे पढ़ें »

ऊपर