बंगाल में सरसों तेल ने बिगाड़ा घर का बजट!

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : पिछले एक साल से भी अधिक समय से महामारी के इस दौर में लोगों की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है। कभी सब्जी महंगी होती है तो कभी डीजल – पेट्रोल के दाम अचानक बढ़ जाते हैं। अब सरसों तेल की कीमत लोगों के घर का बजट बिगाड़ रहा है। चिंताजनक स्थिति यह है कि पिछले एक साल में सरसों तेल के दाम में लगभग शत – प्रतिशत बढ़ोत्तरी देखी गयी। यानी पिछले साल सरसों तेल 90 – 110 रु. प्रति लीटर बिक रहा था वहीं अब 170 रु. प्रति लीटर तथा खुदरा बाजार में 200 से 210 रु. प्रति लीटर (अलग -अलग ब्रांड में) तक बिक रहा है।
इन कारणों से सरसों तेल के दाम बढ़े
पाेस्ता बाजार के वर्किंग प्रेसिडेंट चंदन चक्रवर्ती ने बताया कि राज्य में सरसों तेल पंजाब, यूपी और झारखंड से आता है। अभी केवल राजस्थान से बंगाल में सरसों तेल आ रहा है। यूपी और पंजाब से करीब 4 महीनों से तेल नहीं आ रहा है। वहां से कहीं और सप्लाई हो जा रहा है। वहीं लॉकडाउन के कारण सप्लाई पर असर पड़ा है। मील और कारखानों में उस तरह से काम नहीं हो पा रहे हैं जैसा कि पहले होते थे। महंगा होने का यह भी एक कारण है कि राजस्थान से दूरी होने से ट्रांसपोर्ट खर्च भी अधिक है जो कि यूपी की तुलना में ज्यादा है। इन सभी कारणों से भी सरसों तेल के दाम बंगाल में बढ़ रहे हैं। बंगाल में रोजाना 50,000 लीटर प्रति दिन सरसों तेल की खपत है।
यह भी कारण
* लॉकडाउन में सरसों तेल की डिमांड बढ़ी है, कई जगहों पर तेल स्टोर करने की बात सामने आयी।
* ग्लोबल डिमांड बढ़ रही है।
* सरसों का तेल एंटीबॉडी है, इसलिए इसकी खपत ज्यादा बढ़ी।
* लॉकडाउन से मार्केट में सरसों की आवक कम हुई।
सालभर में ऐसे बढ़ते गये दाम
पिछले साल जब लाॅकडाउन लगा उसके ठीक पहले खुदरा बाजार में सरसों तेल का भाव करीब 90 से 100 रु. प्रति लीटर के आसपास था। 2021 मार्च – अप्रैल में सरसों तेल की कीमत लगभग 130 – 140 रु. लीटर के आसपास पहुंच गई। यह बढ़ते हुए वर्तमान में 180 – 190 रु. लीटर में तेल बिक रहा है (अलग – अलग जगहों पर दाम में मामूली अंतर की संभावना)। ऐसे में पिछले एक साल में सरसों तेल की कीमत करीब दोगुनी हो गयी।
घर चलाना भी हो गया है मुश्किल
ग्राहक विनय सिंह ने कहा कि हर महीने ही तेल के दाम में इजाफा मिलता है। जब खरीदने जाता हूं तो 5 से 10 रु. बढ़े हुए दाम में ही खरीदना पड़ता है। एक गृहिणी विनिता राय ने कहा कि अगर इसी तरह का हाल रहा तो घर चलाना भी मुश्किल हो जायेगा क्योंकि आमदनी नहीं है और खर्च बढ़ता ही जा रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

साल्टलेक सेक्टर-5 स्टेशन का भी निजीकरण

अब बंधन बैंक का लगा स्टेशन पर नाम कोलकाताः मेट्रो रेलवे की ओर से कई स्टेशनों को निजीकरण किए जाने की पहल पहले ही गई है। आगे पढ़ें »

महिला को डायन करार देकर पीटने का आरोप

मिदनापुर: पश्चिम मिदनापुर जिले के जंगलमहल इलाके में एक बार फिर से एक महिला को डायन करार देते हुए उसे बुरी तरह से पीटे जाने आगे पढ़ें »

ऊपर