शह व मात का खेल शुरू : तृणमूल में मुकुल राय अपने साथियों की वापसी करायेंगे !

मिशन 2024 की तैयारी शुरू
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कहते हैं कि राजनीति में कुछ भी स्थिर नहीं होता है। कौन कब किस ओर चला जाये यह कहना मुश्किल है। 2021 विधानसभा चुनाव में जबरदस्त जीत हासिल करने के बाद तृणमूल का अगला टार्गेट निकाय व लोकसभा चुनाव है। इसके लिए राजनीति में शह व मात का खेल शुरू हो गया है। सूत्रों के मुताबिक तृणमूल कांग्रेस इसमें मुकुल राय की भूमिका अहम मान रही है। खासकर पार्टी नार्थ बंगाल के लिए उनके अनुभवों का लाभ उठायेगी। सूत्रों के मुताबिक मुकुल राय की घर वापसी के बाद वे अपने साथियों की भी वापसी करायेंगे। वे सारे नेता चाहे विधायक हों, जिला स्तर पर हों या फिर पंचायत के हों, राजनीतिक गलियारों में चर्चा तेज है कि अगले कुछ दिनों में कई बड़े नेता तृणमूल में आ सकते हैं। उल्लेखनीय है कि मुकुल राय ने यह घोषणा की कि बड़ी संख्या में भाजपा छोड़ तृणमूल में सांसद और विधायक आयेंगे और उनकी इस घोषणा का तृणमूल नेतृत्व ने स्वागत किया है। ऐसे में कयास तेज हैं कि मुकुल के साथ जाने वाले एक बार फिर से तृणमूल में लौट सकते हैं।
कई विधायकों की गतिविधियों से चर्चा तेज
हाल के दिनों में भाजपा के कई विधायकों की गतिविधियों से राजनीतिक गलियारों में चर्चा तेज हो गयी है। कुछ भाजपा विधायक खुलकर तृणमूल सरकार की सराहना कर रहे हैं तो कुछ विधायकों के गोपनीय तरीके से तृणमूल के वरिष्ठ नेताओं से मिलने की भी चर्चा है। वहीं कुछ भाजपा विधायकों के भाजपा की बैठक में नहीं शामिल होने पर भी चर्चाओं का बाजार गरम है। हालांकि उन्होंने स्वास्थ्य कारणों से बैठक में नहीं जाने की बात कही है। मुकुल राय के करीबी सूत्रों के अनुसार उत्तर बंगाल के कई विधायक तृणमूल के संपर्क में हैं।
चुनाव से पहले दलबदलु नेताओं की आ गयी थी बाढ़
पश्चिम बंगाल में 2021 के विधानसभा चुनाव से पहले दलबदलु नेताओं की ताे बाढ़ आ गयी थी। न केवल जिला स्तर पर बल्कि राज्य स्तर पर नेताओं ने पार्टी बदली। कई तृणमूल के विधायक, पंचायत सदस्य, परिषद स्तर के नेता भाजपा में शामिल हो गये। यहां तक कि सांसद भी चुनाव से पहले गेरुआ शिविर में गये। चुनाव परिणाम में तृणमूल की जबरदस्त जीत के बाद कई नेताओं ने तृणमूल में घर वापसी की गुहार लगायी। तृणमूल कांग्रेस में वरिष्ठ नेता मुकुल राय ने घर वापसी कर ली है। उनके तृणमूल में वापसी के बाद से ही राजनीतिक गलियारों में चर्चा तेज हो गयी है कि मुकुल राय अपने साथियों की भी वापसी करा सकते हैं। राजनीति के जाने-माने अनुभवी नेताओं का कहना है कि मुकुल राय जब भाजपा में गये तो उनके जाने के बाद धीरे धीरे कई तृणमूल नेता व विधायक भी भाजपा में गये। अब जब उन्होंने वापसी कर ली है तो यह संभव है कि पूरी तरह तो नहीं मगर कुछ संख्या में जरूर उनके साथी भी लौटेंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

अगर आता है बहुत ज्यादा गुस्सा तो मंगलवार को हनुमान जी के इन उपायों से होगा लाभ

कोलकाता : भागदौड़ भरी जिदगी में टेंशन ज्यादा है सुकून कम। लोग धैर्य और सहनशक्ति खोते जा रहे हैं और यही कारण है कि क्रोध आगे पढ़ें »

ऊपर