विधायक के तौर पर पहली बार मुकुल पहुंचे विधानसभा, ली शपथ, कहा, ‘समय आने पर सब कहूंगा’

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : तृणमूल हो या भाजपा, चुनावी रणनीति तैयार करने में माहिर कहे जाने वाले और पश्चिम बंगाल की राजनीति के ‘चाणक्य’ लम्बे समय के बाद सक्रिय राजनीति में आकर एक बार फिर चर्चा का विषय बने रहे। शुक्रवार को मुकुल राय पहली बार विधायक के तौर पर विधानसभा में पहुंचे और केवल एक लाइन में ही कई बातों की ओर इशारा कर दिया। मुकुल राय ने शपथ ग्रहण के बाद मीडिया कर्मियों को कुछ भी कहने से इनकार करते हुए केवल इतना कहा कि समय आने पर सब कहूंगा।
शपथ ग्रहण के दिन मुकुल राय का व्यवहार देखने लायक था। शुक्रवार को मुकुल राय निर्धारित समय पर ही विधानसभा पहुंचे और लगभग 10 मिनट वहां रुके थे। शपथ ग्रहण के बाद भाजपा परिषदीय दल के कमरे में न जाकर मुकुल सीधे तृणमूल परिषदीय दल के कमरे की ओर चले गये। वहां उन्होंने सत्ताधारी पार्टी के सुब्रत बख्शी से मुलाकात की।
विधानसभा के दूसरे गेट से अंदर गये मुकुल
मीडिया कर्मियों को नजरंदाज करते हुए जिस गेट से मुख्यमंत्री और मंत्री विधानसभा में घुसते हैं, उस गेट से मुकुल विधानसभा के अंदर आये। यहां सत्ताधारी पार्टी यानी तृणमूल के चीफ ह्वीप के कार्यालय के पास कुछ कर्मचारियों से मुकुल राय ने मुलाकात की। इसके बाद मुकुल शपथ ग्रहण कक्ष में पहुंचे जहां उन्होंने एक सरकारी अधिकारी से काफी देर बात की। वहां प्रोटेम स्पीकर सुब्रत मुखर्जी ने मुकुल को शपथ पाठ करवाया। इस दौरान मुकुल को विरोधी दल नेता बनाने की आवाज भी विधानसभा में उठी, लेकिन उस ओर अधिक ध्यान ना देते हुए मुकुल सीधे तृणमूल परिषदीय दल के कमरे में चले गये। वहां उन्होंने तृणमूल के वरिष्ठ नेता सुब्रत बख्शी से सौजन्य मुलाकात की।
मुकुल का हाव-भाव बता रहा था काफी कुछ
मुकुल राय लगभग 20 वर्षों के बाद चुनावी मैदान में उतरे थे। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल राय ने काफी कम चुनाव प्रचार किया था, लेकिन इसके बावजूद कृष्णानगर उत्तर से उन्होंने भारी अंतर से जीत हासिल की। असल में मुकुल एक ऐसे राजनीतिक व्यक्ति हैं जिनके नाम पर ही जनता का बड़ा वर्ग उनकी ओर झुक जाता है। ऐसे में मुकुल राय की जीत कोई बड़ी बात नहीं होने के बावजूद शपथ ग्रहण के दिन मुकुल राय का हाव-भाव काफी कुछ बता रहा था।
मैं अभी कुछ नहीं कहूंगा
विधानसभा भवन से बाहर निकलने के समय मुकुल राय की प्रति​क्रिया जानने के लिए मीडिया कर्मियों की भारी भीड़ मौजूद थी। हालांकि वह कुछ भी कहने को तैयार नहीं थे। बाद में मीडिया कर्मियों से बातचीत में उन्होंने कहा, ‘मैं कुछ नहीं कहूंगा। जब बोलना होगा, तो संवाददाताओं को बुलाकर सब कहूंगा। समय आने पर ही सब कहूंगा।’ इस दौरान मुकुल राय ने कहा, ‘लाेगों के जीवन में ऐसे कुछ दिन आते हैं, जब लोगों को चुप रहना पड़ता है।’ प्रोटेम स्पीकर सुब्रत मुखर्जी से मुकुल राय की कोई बात हुई या नहीं, पूछे जाने पर जवाब में मुकुल ने कहा, ‘उनसे बात नहीं हुई। हालांकि सुब्रत बख्शी से मेरी बात हुई है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

राज्यपाल से मुलाकात करेंगे शुभेंदु अधिकारी समेत बीजेपी विधायक

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में कानून-व्यवस्था के मुद्दे पर बीजेपी के नेता आज प्रदेश के राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात करेंगे। बंगाल में पार्टी के आगे पढ़ें »

आरा बैग कारोबारी हत्याकांड : कुख्यात खुर्शीद कुरैशी सहित 10 को फांसी

बिहार : आरा शहर के चर्चित बैग कारोबारी इमरान खान की हत्या में कोर्ट ने सोमवार को कुख्यात खुर्शीद कुरैशी सहित दस आरोपितों को फांसी आगे पढ़ें »

ऊपर