झाड़फूंक के शक में मां व दो बेटी की हत्या…

मालदह : झाड़फूंक करने के शक में मा और दो बेटियों की हत्या करने की कोशिश की गई। मां की अवस्था गंभीर होने के कारण उसे कोलकाता भेज दिया गया। दोनों बेटियों का मालदह मेडिकल कालेज में इलाज चल रहा है। पड़ोसी को शक है कि इस महिला द्वारा झाड़फूंक किए जाने के कारण ही उसके परिवार के लोग बीमार पड़ रहे हैं। यह घटना मालदह जिला के मोथाबाड़ी थाना के रामनाथपुर गांव में घटी है। आहत के परिवार ने मोथाबाड़ी थाने में पांच लोगों के खिलाफ लिखित शिकायत दर्ज करायी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। पुलिस और परिवार सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अर्चना मंडल और स्वीटी मंडल (14) और पुर्णिमा मंडल (10) इस घटना में घायल हुई हैं। पुर्णिमा कक्षा छह में पढ़ती है। अर्चना पास ही में आमबागान में काम करती है। इस मामले में अभियुक्त हैं रतन मंडल, भोला मंडल, सत्येन मंडल और हरेन मंडल। पति सचीन मंडल ने बताया कि पड़ोसी रतन मंडल के परिवार के कुछ लोग बीमार रहते हैं और उनहें शक है कि अर्चना और उसके परिवार द्वारा झाड़फूंक किये जाने के कारण ही वे बीमार रहते हैं। इसे लेकर एक साल पहले भी तकरार हुई थी। गांव मे सालिसी भी बैठी थी पर कोई नतीजा नहीं निकला था। इधर फिर रतन के परिवार के लोगों की तबीयत खराब हुई तो शक जताया गया कि अर्चना और उसके परिवार के लोगों ने ही झाड़फूंक की है। अर्चना रात के समय अपनी दो बेटियों के साथ घर लौट रही थी इसी दौरान उन पर धारदार हथियारों से हमला कर दिया गया। उनकी चीख सुनने के बाद स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे और उन्हें मालदह मेडिकल कालेज एवं अस्पताल ले गए। मंगलवार को अर्चना की स्थिति बिगड़ने पर उसे कोलकाता रेफर कर दिया गया। ग्राम पंचायत की उपप्रधान मीना मंडल ने कहा कि सुना है झाड़फूंक करने का आरोप लगाते हुए हमला किया गया है। उन्होंने कहा कि किसने हमला किया है नहीं मालूम है पर जिन लोगों ने किया है उन्हें कड़ी सजा मिलनी चाहिए। पुलिस मामले की जांच कर रही है और एक को‌ गिरफ्तार किया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बारला के बाद अब एक और भाजपा सांसद ने की अलग राज्य की मांग

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : अलीपुरदुआर के भाजपा सांसद जाॅन बारला ने जहां उत्तर बंगाल को अलग राज्य या केंद्र शासित प्रदेश घोषित किये जाने की मांग आगे पढ़ें »

मोबाइल फोन का ज्यादा इस्तेमाल करने वाले हो जाएं सावधान…

कोलकाताः मोबाइल फोन के ज्यादा इस्तेमाल से अवसाद और नींद न आने जैसी गंभीर बीमारी हो सकती है। सिर्फ यहीं नहीं एक रिसर्च के मुताबिक, आगे पढ़ें »

ऊपर