पूरे राज्य में 5 करोड़ से अधिक कोविशिल्ड बूस्टर डोज लगने हैं बाकी

स्वास्थ्य विभाग ने जारी की बाकी पड़े बूस्टर डोज की सूची
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : केंद्र की घोषणा के बाद शुक्रवार से 18 से अधिक उम्र वालों को निःशुल्क बूस्टर डोज लगाने की प्रक्रिया चालू कर दी गयी। इस बीच, राज्य के स्वास्थ्य विभाग की ओर से समूचे पश्चिम बंगाल में बाकी पड़े बूस्टर डोज की सूची जारी की गयी है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी की गयी सूची के अनुसार, समूचे राज्य में 5 करोड़ से अधिक कोविशिल्ड बूस्टर डोज लगाये जाने बाकी हैं। 5 करोड़ 43 लाख 75 हजार 209 कोविशिल्ड बूस्टर डोज राज्य भर में आगामी 30 सितम्बर तक लगाये जाने हैं जिनकी जिलावार सूची जारी की गयी है। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग की ओर से कहा गया कि आगामी 75 दिनों तक सरकार की ओर से विभिन्न स्वास्थ्य केंद्रों से बूस्टर डोज लगाये जायेंगे। ऐसे में जिलों से अपील की गयी है कि वे माइक्रो प्लान उसी अनुसार तैयार करें ताकि बूस्टर डोज की खपत समय पर की जा सके। बूस्टर डोज वैक्सीनेशन के लिए वैक्सीनेशन टीम को व्यक्ति की सेकेंड डोज की सर्टिफिकेट देखने के लिए कहा गया है।
उत्तर 24 परगना में सबसे अधिक है बाकी कोविशिल्ड बूस्टर डोज
उत्तर 24 परगना जिले में सबसे अधिक बूस्टर डोज बाकी है जिनकी खपत 30 सितम्बर तक करनी होगी। इस जिले में 54,03,443 कोविशिल्ड बूस्टर डोज लगाये जाने बाकी हैं। उत्तर 24 परगना के बाद ही कोलकाता का नाम आता है जहां 46,41,938 बूस्टर डोज लगाये जाने बाकी हैं। अन्य जिलों की बात करें तो हुगली जिले में 33,15,072 बूस्टर डोज, हावड़ा में 29,65,423 बूस्टर डोज, मुर्शिदाबाद में 32,56,889 बूस्टर डोज बाकी है। इसी तरह पश्चिम मिदनापुर में 26,36,022 जबकि पूर्व मिदनापुर में 24,64,960 बूस्टर डोज लगाये जाने बाकी हैं। दक्षिण 24 परगना में 29,78,891 बूस्टर डोज बाकी हैं जब​कि नदिया जिले में 26,03,801 बूस्टर डोज बाकी हैं। इसी तरह अन्य जिलों में भी बाकी पड़े बूस्टर डोज की संख्या 10 लाख से अधिक है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

गंगा में कटाव से सौ परिवारों की जिंदगी दाव पर लगी

- स्कूल भी किसी वक्त डूबने के कगार पर, 137 बच्चों का भविष्य अंधकार में। - राज्य की सिंचाई मंत्री सबीना यास्मीन ने माना गंगा कटाव आगे पढ़ें »

ऊपर