मोदी का ममता पर बड़ा हमला, कहा, माओवादियों से है तृणमूल का संबंध

दीदी कहती हैं खेला होबे, बीजेपी कहती है विकास होबे
घुसपैठ के पीछे ममता की तुष्टीकरण की नीति जिम्मेदार
सन्मार्ग संवाददाता
पुरुलिया/कोलकाता : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को पुरुलिया में मुख्यमंत्री ममता बनर्जीपर बड़ा हमला बोला। पीएम मोदी ने आरोप लगाया कि माओवादियों का तृणमूल से संबंध है। साथ ही ममता बनर्जी पर उन्होंने ‘तुष्टीकरण और वोट बैंक की राजनीति’ करने का आरोप भी लगाया है कि घुसपैठ के लिए यही जिम्मेदार है। पीएम ने कहा कि दीदी कहती हैं खेला होबे, लेकिन भाजपा कहती है विकास होबे। प्रधानमंत्री ने कहा कि टीएमसी ने बंगाल में माओवादियों की एक नयी नस्ल तैयार की जिसने जनता का पैसा लूटा।
भगवान राम के नाम से की शुरुआत
पीएम मोदी ने कहा, ‘ये धरती भगवान राम और माता सीता के वनवास की साक्षी रही है। यहां अयोध्या पर्वत है, सीता कुंड है। अयोध्या नाम से ग्राम पंचायत भी है। कहते हैं कि जब माता सीता को प्यास लगी थी, तो रामजी ने जमीन पर बाण मारकर पानी की धारा निकाल दी थी। सोचिए तब पुरुलिया में जमीन में पानी का स्तर क्या रहा होगा। यह विडंबना है कि आज मेरे किसान आदिवासी भाइयों को इतना पानी भी नहीं मिलता कि वे सही से खेती कर सकें।’
तृणमूल सरकार अपने ही खेल में लगी रही
यहां पहले वामपंथियों और फिर तृणमूल की सरकार ने उद्योगों को नहीं पनपने दिया। पानी के जो इंतजाम किए जाने थे, वह नहीं किए गए। यहां लोगों की समस्याओं पर ध्यान देने की बजाय तृणमूल सरकार अपने ही खेल में लगी रही। इन लोगों ने पुरुलिया को जल संकट, पलायन और भेदभाव भरा शासन दिया है। इन्होंने पुरुलिया की पहचान बनाई है देश के सबसे पिछड़े इलाके के रूप में। यहां गैस पाइप लाइन का काम बीते 8 वर्षों से अधूरा पड़ा है। यहां बांध का काम भी अधूरा पड़ा है। इसका जवाब कौन देगा।
तोलबाजों की पराजय होगी
इस बार बंगाल के चुनाव में तोलबाजों की पराजय होगी। पश्चिम बंगाल में तृणमूल के दिन गिनती के ही रह गए हैं। यह बात ममता दीदी भी अच्छी तरह समझ रही हैं। खेला होबे, खेला होबे। जब जनता की सेवा का संकल्प हो, विकास के लिए दिन-रात एक संकल्प हो, तब खेला नहीं खेला जाता दीदी।
टीएमसी मतलब ट्रांसफर माई कमीशन
हमारी नीति डीबीटी है। डीबीटी यानी डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर। वहीं बंगाल में टीएमसी का मतलब है ट्रांसफर माई कमीशन। हम डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर करते हैं। वे ट्रांसफर माई कमीशन में डूबे हैं। दो मई दीदी जाच्छे। इस बार भॉय नहीं, सिर्फ जॉय। इस बार जोर से छाप, कमल छाप।
बाटला हाउस पर सवाल उठाने वाले बेनकाब हुए
ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए पीएम ने कहा, ‘बंगाल की जनता को याद है जब आपने देश की सेना पर तख्ता पलट की कोशिश का आरोप लगाया। जब पुलवामा पर हमला हुआ, तब आप किसके साथ खड़ी थीं, यह सबको याद है। दिल्ली की कोर्ट ने बाटला हाउस से जुड़ा बड़ा फैसला किया है। इस फैसले ने आतंकवाद और उनका साथ देने वालों का चेहरा उजागर कर दिया। इसमें एक इंस्पेक्टर शहीद हुआ, लेकिन ममता दीदी और उस समय उनकी पार्टी का व्यवहार कोई भूल नहीं सकता। तब ये आतंकवाद के साथ खड़े थे। बंगाल में घुसपैठ को हवा देने की भी एक ही वजह है तुष्टीकरण। भारत को वंदेमातरम का पाठ पढ़ाने वाली इस जमीन पर दीदी से किसी को ऐसी उम्मीद नहीं थी।’
ममता की चोट का किया जिक्र
हमारे लिए तो दीदी भी भारत की एक बेटी हैं, जिसका सम्मान हमारे संस्कारों में रचा-बसा है। जब उन्हें चोट लगी तो हमें भी चिंता हुई। मेरी प्रार्थना है कि उनकी चोट जल्द से जल्द ठीक हो। पश्चिम बंगाल तभी प्रगति कर सकता है, जब विकास प्रक्रिया में सभी पक्ष साथ आ सकें, लेकिन दीदी ने यहां के दलित, पिछड़े और आदिवासियों को अपना माना ही नहीं। यहां तोलाबाजी का सबसे बड़ा नुकसान आदिवासियों और गरीबों को ही हुआ है। यहां केंद्र से गरीबों के लिए सस्ता चावल भेजा जाता है, उसे भी तृणमूल के तोलाबाज नहीं छोड़ते। पिछले साल कोरोना के समय चावल और अनाज का प्रबंध किया गया, तो दीदी के तोलाबाजों ने उसमें भी घोटाला किया।
दीदी बोले- खेला होबे, भाजपा बोले- सोनार बांग्ला होबे
दीदी बोले खेला होबे, भाजपा बोले विकास होबे। दीदी बोले खेला होबे, भाजपा बोले शिक्षा होबे, महिला का उत्थान होबे, संपूर्ण विकास होबे, सोनार बांग्ला होबे, नौकरी होबे, अस्पताल होबे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

माध्यमिक परीक्षा को लेकर अनिश्चियता, मगर पर्षद ने शुरू की तैयारी

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोरोना काल के बीच राज्य में सभी सरकारी स्कूलों में गर्मी की छुट्टियां दे दी गयी हैं। इस बीच, राज्य में 1 आगे पढ़ें »

दिल्ली ने मुंबई को 6 विकेट से हराया, मिश्रा ने झटके 4 विकेट, अर्धशतक से चूके धवन

चेन्नई : आईपीएल 2021 के 13वें मैच में दिल्ली कैपिटल्स ने मुंबई इंडियंस को 6 विकेट से शिकस्त दी। दिल्ली की यह लगातार दूसरी जीत आगे पढ़ें »

ऊपर