एक महीने में तीसरी बार बंगाल पहुंचे मोदी, कार्यक्रम से ममता बनर्जी ने किया किनारा

कोलकाता/हुगली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को असम के बाद पश्चिम बंगाल पहुंचे। हुगली में कई रेलवे प्रोजेक्ट्स का उद्घाटन करेंगे। हालांकि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कार्यक्रम से दूरी बना ली है। वे यहां मौजूद नहीं रहेंगी। मोदी का एक महीने के अंदर बंगाल का ये तीसरा दौरा है। यहां इसी साल अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होने हैं।
बंगाल में इन प्रोजेक्ट्स को हरी झंडी दिखाएंगे
* नोआपाड़ा और दक्षिणेश्वर के बीच मेट्रो सर्विस का उद्घाटन करेंगे और हरी झंडी दिखाकर पहली ट्रेन रवाना करेंगे। करीब 4.1 किमी लंबे ट्रैक के निर्माण पर 464 करोड़ रुपए की लागत आई है।
* दक्षिण-पूर्व रेलवे के 132 किमी लंबे खड़गपुर-आदित्यपुर तीसरी लाइन प्रोजेक्ट के तहत कलाईकुंडा और झाड़ग्राम के बीच 30 किमी लंबे ट्रैक का उद्घाटन करेंगे। कलाईकुंडा और झाड़ग्राम के बीच चार स्टेशनों को भी डेवलप किया गया है।
* पूर्वी रेलवे के हावड़ा-बैंडेल-अजीमगंज खंड के तहत अजीमगंज और खारगराघाट रोड के बीच दोहरीकरण को राष्ट्र को समर्पित करेंगे।
*डानकुनी और बारुईपाड़ा के बीच चौथी लाइन और रसूलपुर और मागरा के बीच तीसरी रेललाइन सेवा का भी लोकार्पण करेंगे।

हुगली में ही रैली क्यों ?
हुगली में प्रधानमंत्री की रैली के पीछे कई वजहें हैं। सबसे बड़ी वजह यह है कि हुगली में पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने अच्छा प्रदर्शन किया था। 2019 के लोकसभा चुनाव में हुगली से भाजपा की लॉकेट चटर्जी ने जीत दर्ज की थी। ऐसे में इस जीत को बरकरार रखने की कोशिश में मोदी की जनसभा यहां रखी गई है।
दो दिन बाद ममता की रैली
इस मैदान का अपना इतिहास है। यह इलाका एक समय में एशिया की सबसे बड़ी टायर फैक्ट्री रही डनलप का है, लेकिन डनलप फैक्ट्री को बंद हुए सालों हो चुके हैं। ऐसे में यहां के लोगों को मोदी से कुछ घोषणाओं की उम्मीद है। प्रधानमंत्री की रैली के 2 दिन बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की जनसभा भी इसी मैदान में होने वाली है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

एक ताले से मिट जाएगी गरीबी, बस शुक्रवार के दिन करना होगा ये काम

कोलकाताः दुनिया में आधे दुख की जड़ गरीबी को कहा जाता है। इसी वजह से हर कोई खुद को आर्थिक रूप से हमेशा मजबूत रखना आगे पढ़ें »

घर की दो खास दिशाओं में ये 6 चीजें रखने से बढ़ेगी धन-दौलत

कोलकाता : वास्तु के अनुसार, घर की उत्तर और पूर्व-उत्तर दिशा का आर्थिक संपन्नता से सीधा संबंध होता है। इन दोनों दिशाओं में वास्तु दोष आगे पढ़ें »

ऊपर