मोदी और अमित शाह को करना चाहिए शो कॉज – अभिषेक

कहा : अलापन बंद्योपाध्याय के नेतृत्व में जनता के लिए काम किया गया
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : राज्य के पूर्व मुख्य सचिव अलापन बंद्योपाध्याय पर केंद्र द्वारा आपदा प्रबंधन एक्ट के तहत दी गयी नोटिस पर डायमंड हार्बर के सांसद अभिषेक बनर्जी की प्रतिक्रिया आयी है। उन्होंने कहा कि आपदा प्रबंधन एक्ट के तहत नरेंद्र मोदी और अमित शाह को शो कॉज करना चाहिए। दूसरे पर आरोप लगाने से पहले इन्हें अपना मुंह आईना में देखना चाहिए। बुधवार को सांसद ने यास प्रभावित क्षेत्र पाथेर प्रतिमा का दौरा किया तथा शिविर में जाकर लोगों से बातचीत की। इसके बाद मीडिया को संबोधित करते हुए तृणमूल युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष अभिषेक ने कहा कि अलापन बंद्योपाध्याय के नेतृत्व में बंगाल के लोगों के लिए काम हुआ है। जिन्होंने काम किया उसे क्यों शो कॉज किया गया। प्रधानमंत्री व गृह मंत्री के खिलाफ डिजास्टर मैनेजमेंट कानून का प्रयोग करना चाहिए। निर्वाचन कमिशन के खिलाफ मामला होना चाहिए। जब देश में कोरोना कहर बरपा रहा था, रोजाना लाखों मामले आ रहे थे, लोगों की मौत हो रही थी, सभी को घर में रहने की जरूरत थी, ऐसे समय में प्रधानमंत्री यहां आकर सभा कर रहे थे और सभाओं में भीड़ को देखकर खुश हो रहे थे। उनके खिलाफ यह मामला होना चाहिए। दिल्ली से राेजाना भारी संख्या में नेताओं ने 50 हजार लोगों को लाकर यहां सभाएं की ताे उनके खिलाफ मामला क्यों नहीं? केंद्र सरकार निरपेक्ष होकर सभी मुझे सहित राजनीतिक पार्टियां, गृह मंत्री सभी को चिट्ठि दे। बता दें कि अलापन पर केंद्र सरकार के आदेश के पालन से इनकार करना आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 51बी का उल्लंघन का आरोप है। बंद्योपाध्याय से 3 दिनों के अंदर नोटिस का जवाब देने को कहा गया है और उनसे पूछा गया है कि आपदा प्रबंधन एक्ट के तहत उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों न की जाए? यह नोटिस गत मंगलवार को दी गयी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

‘उत्तर बंगाल में भाजपा की अंत शुरूआत हुई’

कहा - राज्य में भाजपा का पतन निकट अलीपुरदुआर के भाजपा अध्यक्ष सहित 7 नेता तृणमूल में शामिल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : उत्तर बंगाल में भाजपा को झटका आगे पढ़ें »

सेक्स के 4 ऐसे पोजीशन जो रात को बना देती है, खुशनुमा

कोलकाताः सेक्स दुनिया का सबसे अलग एहसास है। हालांकि सेक्स को लेकर तरह-तरह के सवाल सभी के मन में रहते है। इसे लेकर लोगों की आगे पढ़ें »

ऊपर