महानगरः सावन के पहले सोमवार को ये मंदिर रहेंगे बंद

  • कुछ मंदिरों में कांवड़ की अनुमति नहीं, कुछ मंदिर रहेंगे बंद

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : सावन का पावन महीना रविवार से शुरू हो गया और आज सावन का पहला सोमवार है। इस दिन​ शिव मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ देखते ही बनती है। कहीं गेरुआ कपड़ों में कांवड़ लेकर लोग पैदल ही निकल जाते हैं भोले बाबा को जल चढ़ाने तो कहीं मंदिर हर – हर महादेव की आवाज से गूंजायमान होते हैं। कुल मिलाकर अद्भुत पवित्र और आस्था से परिपूर्ण दृश्य इस दिन देखने को मिलता है। हालांकि पिछले वर्ष से ही सावन के पवित्र महीने पर भी जैसे कोरोना की बुरी नजर लग गयी है। यही कारण है कि पिछली बार की तरह इस साल भी सावन का महीना कांवड़ियों से सूना ही रहेगा। उत्तर प्रदेश में कांवड़िया यात्रा पर पहले ही रोक लगायी जा चुकी है, वहीं पश्चिम बंगाल में राज्य सरकार की तरफ से भले ही कोई स्पष्ट संदेश ना आया हो, लेकिन मंदिर प्रबंधन खुद ही इस मुद्दे पर सतर्क हो गये हैं। पश्चिम बंगाल के तारकेश्वर में जहां हर साल सावन के सोमवार पर काफी अधिक भीड़ होती है, वहीं इस बार मंदिर प्रबंधन की ओर से कांवड़ यात्रा की अनुमति नहीं दी गयी है। इसी तरह उत्तर कोलकाता का विख्यात भूतनाथ मंदिर आज यानी सावन के पहले सोमवार के दिन ही बंद रहेगा।
दक्षिणेश्वर में कांवड़िया को अनुमति मगर कोविड नियम मानने होंगे
काली मां का स्थान हाेने के साथ ही दक्षिणेश्वर में कई शिव मंदिर भी हैं। यहां के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी कुशल चौधरी ने बताया कि मंदिर में कांवड़िया आ सकते हैं, लेकिन किसी तरह की भीड़ इकट्ठा करने की अनुमति नहीं होगी। कोविड नियम मानने होंगे, समूह में लोगों को आने नहीं दिया जाएगा।
भूकैलाश मंदिर अब तक नहीं खोला गया है श्रद्धालुओं के लिए
भूकैलाश राजबाड़ी के ट्रस्टी सत्य विभाष घोषाल ने बताया, ‘राज्य सरकार के कोविड नियमों को ध्यान में रखते हुए हमारा मंदिर अब तक श्रद्धालुओं के लिए नहीं खोला गया है। इस कारण आज भी मंदिर बंद ही रहेगा। जब तक मंदिर खोलने को लेकर कोई निर्देश नहीं जारी किया जाता, तब तक मंदिर बंद रहेगा। फिलहाल मंदिर के पुजारी ही रोजाना पूजा कर रहे हैं। मंदिर में हर साल तीसरे सावन के सोमवार पर एक बड़ा कार्यक्रम होता है, पिछले साल कोविड के कारण ये छोटे पैमाने पर हुआ था। इस बार अगर मंदिर खुलने की अनुमति मिलती है तो ये कार्यक्रम छोटे पैमाने पर आयोजित किया जाएगा। इस बीच, अगर मंदिर खोलने के लिए कहा ​जाता है तो कोविड नियमों को ध्यान में रखते हुए ही मंदिर खोले जाएंगे।’
आज भूतनाथ मंदिर रहेगा बंद
आज सावन के पहले सोमवार पर उत्तर कोलकाता का प्रख्यात भूतनाथ मंदिर बंद रहेगा। इस बारे में हिन्दू सत्कार समिति की ओर से महेश ठाकुर ने बताया कि कोरोना से बचाव के लिए राज्य सरकार द्वारा जारी किये गये निर्देशों एवं श्रावण मास में होने वाली भक्तों की अपार भीड़ को देखते हुए रविवार एवं सोमवार को मंदिर भक्तों के लिए बंद रहेगा। 27 से 31 जुलाई तक सायं 4 बजे से 7.30 बजे तक दर्शन के लिए खुला रहेगा।
बंगेश्वर मंदिर है खुला, मगर मानने होंगे कोविड नियम
हावड़ा का बंगेश्वर मंदिर सुबह 5 से दोपहर 12 बजे तक खुला है, कांवड़ियों के भी यहां आने की अनुमति है। हालांकि कोविड नियम मानने होंगे। किसी तरह की भीड़ इकट्ठा करने की अनुमति नहीं होगी।
कांवड़ यात्रा पर रोक, भक्त कर सकेंगे बाबा का अभिषेक
तारकेश्वर मंदिर प्रबंधन की ओर से बताया गया कि कोरोना के कारण कांवड़ यात्रा पर रोक लगायी गयी है, लेकिन बस या ट्रेन से आने वाले लोग बाबा की आराधना कर उनका अभिषेक कर सकेंगे। इसके लिए पुलिस का पूरा पहरा रहेगा। कोविड के नियमों को मानना अनिवार्य होगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

फैट बर्न करके वजन घटा सकता है करी पत्ता

कोलकाता : आज हम आपके लिए लेकर आए हैं करी पत्ते के फायदे। करी पत्ता पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने और एनीमिया को दूर करने आगे पढ़ें »

ऊपर