मार्च के पहले ही दौड़ेगी सियालदह तक मेट्रो

रोजाना ही चल रहा ट्रॉयल
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः यदि सब कुछ सही रहा तो जल्द आप साल्टलेक सेक्टर-5 से सियालदह तक मेट्रो का सफर कर सकेंगे। कोलकाता मेट्रो रेलवे कारपोरेशन (केएमआरसी) की ओर से ईस्ट वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर के तहत सियालदह तक मेट्रो का ट्रॉयल पहले से ही किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि सियालदह तक मेट्रो ट्रेन का ट्रायल रन 31 जुलाई को शुरू हुआ था। केएमआरसीएल की ओर से रोजाना ही मेट्रो का ट्रायल रन चलाया जा रहा है। सियालदह मेट्रो परिसर में ज्यादातर मेट्रो का काम हो चुका है। बाहरी ढांचे को भी सुंदर बनाया जा रहा है। सियालदह मेट्रो के आसपास का काम लगभग खत्म हो चुका है। मेट्रो स्टेशन के ऊपरी गेट से सभी पार्किंग की व्यवस्था करने का काम भी पूरा हो चुका है।
सियालदह मेट्रो स्टेशन जमीन के 16.5 मीटर नीचे
सियालदह मेट्रो लाइन जमीन से करीब 16.5 मीटर नीचे‌ स्थित है। सियालदह मेट्रो स्टेशन की एक तरफ फूलबागान मेट्रो स्टेशन, दूसरी तरफ एस्प्लानेड मेट्रो स्टेशन है। पूरी मेट्रो परियोजना हावड़ा मैदान तक है। हालांकि अब भी कुछ जगहों पर काम बाकी है। ऐसे में पूरी परियोजना के शुरू होने में थोड़ा सा समय लग सकता है। केएमआरसी के सूत्रों ने कहा कि हम कोशिश कर रहे हैं कि इसी साल मार्च के पहले तक सियालह तक मेट्रो शुरू कर दी जाए। पिछले दिनों कोलकाता मेट्रो रेलवे के जीएम मनोज जोशी ने स्वयं सियालदह मेट्रो स्टेशन का निरीक्षण करके जानकारी ली थी। सबसे व्यस्ततम स्टेशनों में शुमार सियालदह स्टेशन से आसानी से यात्री सियालदह मेट्रो स्टेशन की यात्रा जल्द कर सकेंगे। लाखों यात्रियों के मेट्रो परिसेवा का उपयोग करने की उम्मीद है।
इस पर नजर
-साल्टलेक सेक्टर 5 से हावड़ा मैदान तक 16.6 किलोमीटर की परियोजना
-वर्तमान में साल्टलेक सेक्टर-5 से फूलबागान तक चल रही मेट्रो
कुछ विशेषताओं पर नजर
-प्लेटफॉर्म स्क्रीन डोर
-विशेष सिक्योरिटी रूम से निगरानी
-मेट्रो स्टेशन पर टोकेन मशीन, एस्क्लेटर, लिफ्ट व अन्य सुविधाएं

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

अंचल कमेटियों का गठन कहीं उल्टा न पड़ जाये भाजपा को

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : प्रदेश भाजपा में भले ही दस्तावेजों में मण्डल कमेटी का कार्य काफी हद तक हो गया है, लेकिन जमीनी स्तर पर असलियत आगे पढ़ें »

ऊपर