यास को लेकर युद्धस्तर पर जुटी रही मौसम विभाग की टीम

हर पल अपडेट से प्रशासन व लोगों को मिलती रही सटीक जानकारी
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः दरअसल ऐसा पहली बार नहीं है कि भारतीय मौसम विभाग ने किसी तूफान को लेकर पहले से ही अलर्ट जारी किया हो, ताकि जान माल की क्षति कुछ कम हो सके। इस बार भी यास चक्रवार्ती तूफान को लेकर पहले ही मौसम विभाग, अलीपुर, क्षेत्रीय कार्यालय ने अलर्ट जारी कर दिया था। इससे प्रशासन को काफी हद तक इससे होने वाले खतरे को लेकर तैयारी करने का मौका मिल सका। दरअसल मौसम विभाग के अधिकारी व कर्मचारी युद्धस्तर पर तूफान के आकलन को लेकर तत्पर रहे। क्षेत्रीय मौसम विभाग, कोलकाता में 100 से अधिक अधिकारी व कर्मी हैं। सभी लोगों की टीम शिफ्ट के अनुसार तत्पर रही। हर दिन व हर पल मौसम विभाग के अधिकारी विभिन्न माध्यमों से लोगों को यास चक्रवाती तूफान को लेकर अपडेट करते नजर आए। माना जा रहा है कि इस वजह से लोगों को भी समय मिल सका, कि वह तूफान के प्रभाव से स्वयं को बचाने के आवश्यक उपाय कर सकें। डॉ.संजीव बंद्योपाध्याय, डीडीजीएम, क्षेत्रीय मौसम विभाग लगातार स्वयं अलग-अलद माध्यमों से तूफान की गति व स्थिति के बारे में अपडेट करते नजर आए। इसके अलावा क्षेत्रीय मौसम विभाग का दिल्ली मौसम विभाग के साथ संपर्क बना रहा। इसके साथ ही साथ भुवनेश्वर, झारखण्ड के मौसम विभाग से भी समन्वय मौसम विभाग के अधिकारियों ने बनाए रखा। अलीपुर स्थित मौसम विभाग में यास चक्रवाती तूफान को लेकर सभी कर्मचारी व अधिकारी तत्पर रहे। युद्धस्तर पर यहां 24 घण्टे ही अलग-अलग शिफ्ट में काम चलता रहा।
10% चक्रवात भारतीय तटों पर, देश की 40% आबादी रहती है यहां
इंडियन मीटियरोलॉजिकल डिपार्टमेंट (आईएमडी) मौसम से जुड़ी पुख्ता जानकारी उपलब्ध करवाने को तत्पर रहता है। उसके पास दरअसल 7500 किलोमीटर लंबी भारतीय तट रेखा के पास रहने वाले देश की करीब 40% आबादी की हिफाजत का एक तरह से जिम्मा भी कहा जा सकता है।
आइला, बुलबुल, फेनी व अम्फान को लेकर भी ‌किया था पहले ही अलर्ट
क्षेत्रीय मौसम विभाग ने इससे पहले भी आइला, बुलबुल, फेनी व अम्फान जैसे चक्रवाती तूफान को लेकर अलर्ट जारी कर दिया था। इस कारण प्रशासन की ओर से जान माल की क्षति कुछ कम की जा सकी थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वैक्सीनेशन की डोज लेने की लग रही होड़

18 से अधिक उम्र के लिए अब भी जद्दोजहद बरकरार सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः राज्य में वैक्सीनेशन के प्रति लोगों का उत्साह चरम पर है। हालांकि 18 साल आगे पढ़ें »

सुबह-सुबह खाली पेट कभी न खायें ये 5 चीजें

कोलकाताः सुबह-सुबह ऑफिस भागने की जल्दबाजी में हम कुछ भी खाली पेट खाकर ऑफिस के लिए निकल जाते हैं। आपकी यह आदत सेहत पर भारी आगे पढ़ें »

ऊपर