लक्ष्मीरतन के बाद और भी नेता छोड़ सकते हैं तृणमूल, चर्चा तेज

सन्मार्ग संवाददाता
हावड़ा :
लक्ष्मीरतन शुक्ला ने गत मंगलवार को मंत्री व जिलाध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया। केवल विधायक पद ही उन्होंने अपने पास रखा है। उन्होंने मुख्यमंत्री को दी गयी चिट्ठी में साफ कहा है कि वह अपना टेन्योर पूरा करना चाहते हैं। हावड़ा में यह चर्चा तेज है कि जब घर में लक्ष्मी नहीं होता है तो घर घर नहीं होता। ऐसे में यह चर्चा तेज है कि लक्ष्मी के बाद कई बड़े नेता व समर्थक ऐसे हैं जो कि तृणमूल छोड़कर जा सकते हैं। वहीं मंगलवार को हावड़ा के एक और प्रभावशाली नेता व राज्य के मंत्री राजीव बनर्जी ने भी पार्थ चटर्जी के साथ होनेवाली बैठक से पल्ला झाड़ लिया, यह कहकर कि उनकी तबीयत खराब है। देखा जाये तो आगामी 2021 में हावड़ा में तृणमूल को टूटन से बचा पाना मुश्किल है, क्योंकि कुछ नेता ऐसे हैं जो कि पब्लिक प्लेटफाॅर्म पर समय-समय पर तृणमूल के खिलाफ कुछ न कुछ बोलते नजर आ जाते हैं। वहीं बाली की विधायक वैशाली डालमिया को बहिरागत कहने पर वे लगातार पार्टी के खिलाफ बोल रही हैं। उन्होंने गत मंगलवार को भी कहा कि हावड़ा में तृणमूल के बीच आपसी द्वंद्व ज्यादा है। लोगों को काम करने में काफी मुश्किलें आती हैं। इसके बाद हावड़ा नगर निगम के पूर्व मेयर डॉ. रथीन चक्रवर्ती ने भी बुधवार को मीडिया में दिये गये बयान में कहा कि हावड़ा में तृणमूल सड़े हुए तालाब की तरह हो गयी है। जहां पर केवल बदबू है और काम करना काफी मुश्किल है। इसके साथ ही जगदीशपुर ग्राम के पंचायत प्रधान गोविंद हाजरा ने कहा कि लक्ष्मी द्वारा पद को त्यागने का अर्थ है कि उन्हें हावड़ा में काम करने में सहयोग नहीं दिया जा रहा है। दुआरे सरकार के कार्यक्रम में भी तृणमूल के नेता जाना नहीं चाहते हैं क्योंकि उन्हें यह डर रहता है कि उन्हें कहीं कोरोना न हो जाये। इन्हीं सब कारणों से लक्ष्मी ने यह फैसला लिया है।
अमित शाह की सभा होगी एक्स फैक्टर
यह भी साफ कहा जा रहा है कि आगामी जनवरी महीने में ही गृह मंत्री अमित शाह हावड़ा में एक जनसभा को संबोंधित कर सकते हैं। इसमें हावड़ा के कई प्रभावशाली नेताओं की भाजपा में एंट्री करायी जा सकती है, जो कि भाजपा के लिए एक्स फैक्टर होगा। बताया जाता है कि जिस प्रकार शुभेंदु अधिकारी को भाजपा में शामिल करने के लिए मिदनापुर में अमित शाह की सभा की गयी थी, उसी प्रकार हावड़ा में भी एक जनसभा का आयोजन किया गया है, हालांकि यह सभा कब होगी, इसे लेकर भाजपा की ओर से साफ नहीं कहा गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

गाजियाबाद : 11 साल के बच्चे ने मांगी 10 करोड़ की फिरौती

गाजियाबाद : पांचवीं क्लास में पढ़ने वाले 11 साल के बच्चे से आप क्या-क्या करने की उम्मीद कर सकते हैं । उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद आगे पढ़ें »

तिरंगे का अपमान नहीं सहेंगे, बहुत हुआ

'तिरंगे का अपमान, नहीं सहेगा हिंदुस्‍तान' नई दिल्‍ली : गणतंत्र दिवस पर दिल्‍ली में हुई हिंसा का असर किसानों के आंदोलन पर दिख रहा है। दिल्‍ली आगे पढ़ें »

ऊपर