मानिकतला : भाजपा के खिलाड़ी का मुकाबला तृणमूल के अनुभवी नेता से

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : मानिकतला विधानसभा क्षेत्र में अंंतिम चरण यानी कल चुनाव होना है। यहां भाजपा के खिलाड़ी का मुकाबला तृणमूल के अनुभवी नेता से है। तृणमूल ने यहां से अपने अनुभवी उम्मीदवार साधन पाण्डे को मैदान में उतारा है तो वहीं भाजपा ने लोकसभा चुनाव लड़ने का अनुभव पा चुके कल्याण चौबे को मानिकतला से टिकट दिया है। वहीं संयुक्त मोर्चा की ओर से माकपा की प्रत्याशी रूपा बागची भी मैदान में हैं जिनका राजनीति में काफी अनुभव भी है, लेकिन मौजूदा हालातों को देखते हुए यहां भाजपा और तृणमूल के बीच ही लड़ाई मानी जा रही है।
एक नजर विधानसभा क्षेत्र पर
कोलकाता उत्तर लोकसभा क्षेत्र में आने वाला यह विधानसभा क्षेत्र कोलकाता नगर निगम के वार्ड नं. 11, 12,13,14,15, 16, 31 और 32 को मिलाकर बना है। यहां लगभग 2.11 लाख मतदाता हैं जिनमें से 1.35 लाख मतदाता बस्तियों में रहते हैं। भाजपा उम्मीदवार कल्याण चौबे का कहना है कि बस्तियों की आबादी आज भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित है। इधर, 2016 के विधानसभा चुनाव में र​जिस्टर्ड वोटर्स की संख्या 1,44,592 थी। वहीं 2016 के विधानसभा चुनाव में इस क्षेत्र में 69.70% वोट पड़े थे।
2016 में यहां से जीते थे साधन
वर्ष 2016 के विधानसभा चुनाव में साधन पाण्डे ने 25,311 वोटों से जीत हासिल की थी। उन्हें 73,157 वोट मिले थे जबकि माकपा उम्मीदवार राजीव मजूमदार को 47,846 वोट मिले थे। उस समय भाजपा तस्वीर में कहीं नहीं थी और भाजपा उम्मीदवार सुनील राय को केवल 18,149 वोट मिले थे। 2011 में भी ये सीट साधन पाण्डे ने जीती थी। उन्हें 89,039 वोट मिले थे जबकि माकपा उम्मीदवार रूपा बागची को 52,489 वोट मिले थे।
एक तरफ परिवर्तन का भरोसा तो एक तरफ राजनीति का अनुभव
भाजपा उम्मीदवार कल्याण चौबे मानते हैं कि इस बार जनता परिवर्तन चाहती है और यह परिवर्तन होकर रहेगा। वहीं दूसरी ओर, साधन पाण्डे का मानना है कि राजनीति में उनका अनुभव काफी ज्यादा है और इस बार भी अपने अनुभव और कार्यों के बल पर वह जीतेंगे। यहां उल्लेखनीय है कि कल्याण चौबे 2019 के लोकसभा चुनाव में तृणमूल की महुआ मोइत्रा के खिलाफ लड़े थे, लेकिन वह चुनाव हारने के बाद इस बार कल्याण दुगुनी तैयारी के साथ मैदान में उतरे हैं। मानिकतला सीट से 2 बार के विधायक और बड़तल्ला सीट से कांग्रेस के 6 बार के विधायक रहे साधन पाण्डे को हराने के लिए कल्याण चौबे के पास कई मुद्दे हैं। कल्याण चौबे ने कहा, “लोग इस बार परिवर्तन चाहते हैं क्योंकि विधायक केवल पोस्टरों और बैनरों के अलावा कहीं नहीं दिखते हैं। विशेषकर बस्तियों के लोगों की शिकायत है कि आज तक उनके यहां शौचालय की सुविधा भी नहीं है। एक बाथरूम भी नहीं है जहां महिलाएं स्नान कर सके। इसके अलावा उन्होंने कहा कि भाजपा के आने के बाद महिलाओं को निःशुल्क ​शिक्षा समेत कला व संस्कृति के क्षेत्र में भी कई सुविध्घएं दी जाएंगी। वहीं मैं खेल जगत का हूं तो 2000 करोड़ के स्पोर्टस् ब​जट में मेरी भूमिका होगी। 2000 में सैफ चैम्पियनशिप में देश का प्रतिनिधित्व करने वाले चौबे ने कहा कि अब खेल के फील्ड में जाकर देश के प्रति योगदान नहीं कर पाऊंगा इसलिये अब राजनीति के क्षेत्र को चुना है। जीतने के बाद प्राथमिकता के बारे में उन्होंने कहा कि महिलाओं के लिए शौचालय बनवाना सबसे पहला काम होगा।
2019 में मामूली वोटों से आगे थी तृणमूल
2019 के लोकसभा चुनाव में मानिकतला सीट से तृणमूल मामूली वोटों से आगे थी। भाजपा के राहुल सिन्हा को यहां से 60273 वोट मिले थे जबकि तृणमूल के सुदीप बंद्योपाध्याय को 61,134 वोट मिले थे। ऐसे में इस बार देखना यह है कि इस सीट को तृणमूल बचा पाती है या फिर परिवर्तन की बयार यहां बहेगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

भाजपा के सभी विधायकों को केंद्र देगा सुरक्षा

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में चुनावी नतीजों की घोषणा के बाद से विभिन्न हिस्सों से भाजपा कार्यकर्ताओं पर हिंसा की खबरें आ रही हैं। ऐसी आगे पढ़ें »

क्या रात में ब्रा पहन कर सोना चाहिए? जानें इस पर क्या है एक्सपर्ट की राय

कोलकाता : अक्सर महिलाएं इस बात को लेकर काफी परेशान रहती हैं कि क्या रात को ब्रा उतार कर सोना चाहिए या नहीं। जहां कुछ आगे पढ़ें »

ऊपर