ममता का आयोग को चुनौती, कितने ही तबादले कर ले जीतेगी तृणमूल ही

भाजपा पर लगाया चुनाव आयोग को कंट्रोल करने का आरोप
कहा : अल्पसंख्यक वोट पाने के लिए नयी पार्टी का भाजपा कर रही है समर्थन
सन्मार्ग संवाददाता
मिदनापुर/द 24 परगना : विधानसभा चुनाव के पहले चरण का चुनाव अगले 48 घंटों में होने जा रहा है। इस बीच चुनाव आयोग ने राज्य के 4 पुलिस अधिकारियों के साथ एक आईएएस का तबादला कर दिया। आयोग के इस तबादले पर निशाना साधते हुए ममता बनर्जी ने एक बार फिर भाजपा पर चुनाव आयोग को कंट्रोल करने का आरोप लगाया, साथ ही चैलेंज दिया कि आयोग चाहे तो सभी अधिकारियों का तबादला कर दे, जीत तो तृणमूल की ही होगी। ममता ने कहा कि राज्य का हर अधिकारी हमारा अपना है और सभी अपना काम बहुत अच्छे से करते रहे हैं। ममता ने कहा कि यह सब भाजपा का किया कराया खेल है जो चुनाव आयोग के कामकाज में हस्तक्षेप कर रही है। ममता बनर्जी पहले से ही आरोप लगाती आयी हैं कि भाजपा के इशारों पर ही आयोग अपना काम कर रहा है।
नयी पार्टी को भाजपा का समर्थन ताकि मिले अल्पसंख्यक वोट
ममता ने कहा कि विधानसभा चुनावों में वोटों का बंटवारा करने के लिए नयी राजनीतिक पार्टियां आयी हैं जिसे भाजपा समर्थन दे रही है। ममता ने आरोप लगाया कि ऐसा भाजपा विधानसभा चुनाव में अल्पसंख्यकों का वोट हासिल करने के लिए कर रही है। उन्होंने किसी दल अथवा व्यक्ति का नाम लिए बिना आरोप लगाया कि उस पार्टी के संस्थापक को भाजपा से धन मिलता है। उन्होंने कहा, ‘भाजपा के आदेश पर राज्य में एक नए राजनीतिक दल का गठन हुआ है, जिसका मकसद अल्पसंख्यकों का वोट हासिल करना और भगवा दल की मदद करना है।’ ममता का प्रत्यक्ष तौर पर इशारा ‘इंडियन सेक्युलर फ्रंट’ की ओर था।
फिर दोहराया माकपा, कांग्रेस और भाजपा में साठगांठ का मुद्दा
ममता ने एक बार फिर कहा कि माकपा और कांग्रेस की भाजपा के साथ साठगांठ है। इनका मकसद बंगाल में विकास को रोकना है। उन्होंने कहा कि केवल तृणमूल कांग्रेस राज्य में संशोधित नागरिकता कानून तथा एनपीआर को लागू होने से रोक सकती है और विभिन्न समुदायों के बीच मित्रता सुनिश्चित कर सकती है। ममता ने कहा कि जो विकास चाहते हैं वह तृणमूल को ही वोट दें, जिसका मकसद अल्पसंख्यकों के वोट हासिल करना और भगवा दल की मदद करना है। कृपया करके उसके उम्मीदवार को वोट नहीं दीजिएगा।
चोर मैं नहीं, मोदी-शाह हैं चोरों के सरताज
ममता ने भाजपा के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा, ‘मुझे चोर और हत्यारा कहा जा रहा है क्योंकि मुझे जनता से प्यार है और जब भी जरूरत होती है, मैं उनके साथ खड़े होने के लिए दौड़ पड़ती हूं।’ उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह को ‘‘चोरों का सरताज’’ कहा। साथ ही उनसे ‘‘लाखों कर्मचारियों के प्रॉविडेंट फंड के बकाए ’’ और सार्वजनिक उपक्रमों में हिस्सेदारी को बेचने के संबंध में स्पष्टीकरण देने को कहा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

इस आसान तरीके से करें सेहत की जांच, 6 मिनट का यह टेस्ट बताएगा आपको ‘Corona’ तो नहीं

कोलकाताः कोरोना काल में लोगों की यह चिंता वाजिब है कि उन्हें स्वस्थ रहना जरूरी है ताकि परिवार का खयाल रखा जा सके। आप अगर आगे पढ़ें »

मुंह में दिखने वाले ये लक्षण हो सकते हैं कोविड-19 का संकेत, तुरंत कराएं टेस्ट!

कोलकाताः कोरोना वायरस की दूसरी लहर में वायरस में हुए नए बदलाव की वजह से मरीजों में रोजाना ही अलग-अलग तरह के लक्षण दिख रहे आगे पढ़ें »

ऊपर