विश्व मंच पर लोकप्रियता बटोर रहा है दुआरे सरकार व पाड़ाय समाधान

कहा : खाद्य व चिकित्सा की फ्री परिसेवा बंगाल में
78 प्रतिशत लोगों तक पहुंची दुआरे सरकार की परिसेवा
कोलकाता : सरकारी परिसवा पाने के लिए दफ्तरों के चक्कर कांटने की जगह राज्य सरकार अब लोगों के दरवाजे तक पहुंच चुकी है। बंगाल की हर जनता तक सरकारी परिसेवा पहुंच सके उसके लिए ममता सरकार ने दुआरे सरकार और पाड़ाय समाधान योजना चालू की है। दोनों ही यो​जनाएं बंगाल के लोगों को पसंद आने के साथ ही विश्वमंच पर लोकप्रियता बटोर रही है। बुधवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने सरकार की इन दोनों योजनाओं का रिपोर्ट कार्ड पेश किया। इस खास मौके पर विश्व बैंक से लेकर हर क्षेत्र के गण्यमान्य उपस्थित थे जिन्होंने इन योजनाओं को और बेहतर करने के लिए अपने विचारों को भी व्यक्त किया। सबसे बड़ी बात रही कि विश्व मंच पर इस योजना को जो ख्याति मिली है वह पूरी दुनिया के लिए एक बेजोड़ उदाहरण बन गया है। विश्व बैंक की तरफ से कहा गया कि इस कदर इतनी बड़ी संख्या में लोगों तक पहुंचना और उन्हें सरकारी परिसेवा प्रदान करने की समस्त प्रक्रियाओं को पूरा करना अपने आप में मिसाल है। इस मौके पर ममता ने दोनों योजनाओं से जुड़ी दो किताबों का विमोचन किया तथा कुछ लाभार्थियों को परिसेवा भी प्रदान की।
78 प्रतिशत लोगों को मिला दुआरे सरकार का लाभ
मुख्यमंत्री ने बताया 5वें चरण में पहुंच चुके दुआरे सरकार ने अब तक 2 करोड़ 55 लाख लोगों का नाम पंजीकृत किया है, उसमें 78 प्रतिशत लोगों को इसका पूरा लाभ मिला है बाकी को भी जल्द परिसेंवाएं प्रदान कर दी जाएगी। उन्होंने बताया कि दुआरे सरकार, पाड़ाय समाधान, चोखेर आलो और स्वास्थ साथी का लाभ करोड़ों लोगों को मिल चुका है।
लोगों ने कहा, बेहतरीन है जनता तक पहुंचने का यह जरिया
विश्व बैंक के प्रतिनिधि जुनैद अहमद ने कहा कि कोरोना काल में भी राज्य सरकार ने जिस तरीके से लोगों तक सरकारी परिसेवाएं पहुंचायी है और तारीफ के काबिल है। दूसरी तरफ यूनिसेफ की ओर से आयी यास्मिन अली हक ने कन्याश्री और रुपश्री योजना की सराहना करते हुए कहा कि सरकार को ध्यान रखना चाहिए कि ये योजनाएं इसी तरह लोगों को लाभान्वित करती रहे।
राज्य सरकार का लक्ष्य ही है जनता तक परिसेवाएं पहुंचाना
ममता बनर्जी ने कहा राज्य सरकार का मूल उद्देश्य जनता तक समस्त सरकारी योजनाओं को पहुंचाना है। ऐसा नहीं है कि सब कुछ सहजता से हो जा रहा है। कुछ परेशानी भी होती है मगर हम अपने लक्ष्य से डगमगाते नहीं है। आगे भी हमारी सरकार इसी लक्ष्य के साथ जनता के लिए काम करती रहेगी। स्वास्थ साथी योजना को लेकर ममता ने कहा कि यहां लोगों को फ्री में हेल्थ चिकित्सा दी जाती है जबकि केंद्र की ओर से चालू आयुष्मान भारत भी है जिसमें 60:40 (केंद्र:राज्य) का अनुपात है। स्वास्थ साथी का लाभ सिर्फ बंगाल नहीं बल्कि बिहार, झारखण्ड के लोगों को भी मिल रहा है। ममता ने बताया कि 10 करोड़ की जनता को खाद्य साथी का लाभ मिल रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शिवसेना पश्चिम बंगाल में नहीं लड़ेगी चुनाव, तृणमूल को दिया समर्थन

बंगाल इकाई ने अलग किये रास्ते तृणमूल ने किया शिव सेना के फैसले का स्वागत कोलकाता : राष्ट्रीय जनता दल और समाजवादी पार्टी के बाद शिव सेना आगे पढ़ें »

ईसीएल ने 500 टन कोयला चोरी का पता लगाया था लेकिन कार्रवाई नहीं हुई

कोयला तस्करी मामले में रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों से सीबीआई ने की घंटों पूछताछ कोलकाता : ईस्टर्न कोलफिल्ड्स लिमिटेड (ईसीएल) के सतर्कता दल ने शिल्पांचल की आगे पढ़ें »

ऊपर