पहले सीएम ने लगायी फटकार, फिर किया दुलार

पुरुलिया : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जिले के हुटमुड़ा मैदान में एक विशाल जनसभा को संबोधित किया। उनके संबोधन के दौरान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का लोगों ने कई रूप देखा। इस दौरान उनका एक प्रशासक, अभिभावक एवं एक बड़ी बहन का रूप मुख्य था। उस सभा में जब मुख्यमंत्री का संबोधन चल रहा था, उसी दौरान प्राणी मित्र के रूप में कार्य करने वाली कुछ महिलाओं ने बीच सभा में उठ कर अपनी मांग मुख्यमंत्री को बताना प्रारंभ कर दिया। उनके इस व्यवहार से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नाराज हो गयीं। उनको इंगित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आपलोगों का यह व्यवहार ठीक नहीं है। उन्होंने उन्हें केंद्र कर विरोधियों पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा और विरोधी ध्यान रखें, इस प्रकार से उनकी सभा में वे भी आदमी भेजकर उनका कार्यक्रम खराब कर सकती हैं। हालांकि अब तक वे ऐसा नहीं कर रही हैं, पर अगर वे लोग कुछ लोगों को सीखाकर सभा में भेजने से बाज नहीं आये तो वे भी उनकी सभा में इस प्रकार की हरकत करवा सकती हैं। वहीं मांग करने वाली प्राणी मित्र का कार्य करने वाली महिलाओं को कहा कि अगर वे उनकी सभा में अनुशासन भंग करेंगी तो उनकी मांग को वो पूरा नहीं करेंगी। उन्होंने नेताओं को निर्देश देते हुए कहा कि आगे से इसका ध्यान रखें। मुख्यमंत्री ने कहा कि मांग करने का एक नियम है। उस आधार पर पत्र लिखें, वे जरूर पूरा करेंगी। हालांकि बाद में मुख्यमंत्री ने उन्हें दुलार से कहा कि आप लिखित में अपनी मांग दीजिये, अगर संभव हुआ तो उसे पूरा करने का प्रयास किया जायेगा। उन्होंने मंच से एक नेता को भेज उनसे मांग पत्र भी मंगवाया। प्राणी मित्र की मौमिता मित्रा ने कहा कि उन्हें इस बात का खेद है कि बीच सभा में अपनी मांग रखनी पड़ी पर सभा के दौरान ही सीएम ने सहृदयता का परिचय देते हुए उनकी मांगों को लिखित में लिया। उन्होंने विश्वास जताते हुए कहा कि सीएम उनकी मांगों पर गंभीरता से विचार करेंगी। सभा के बाद पूरे दिन इस घटना की चर्चा होती रही।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मंगलवार के दिन ये 6 काम करना होता है बड़ा ही अमंगलकारी

कोलकाताः पवनपुत्र हनुमान हर समस्या से अपने भक्तों को बचाते हैं। ज्योतिष के अनुसार, मंगलवार के दिन इनके पूजा करने से इंसान के सभी भौतिक आगे पढ़ें »

..धन लाभ से लेकर करियर में सफलता के लिये करे ये 5 उपाय

कोलकाता : हिंदू धर्म में हर दिन किसी ना किसी भगवान को समर्पित हैं। मंगलवार के दिन संकटमोचन भगवान हनुमान जी की पूजा की जाती आगे पढ़ें »

ऊपर