एम.ए पास नटवरलाल चला रहा था चोरों का गिरोह, 3 गिरफ्तार

पिता थे सेल के ऑफिसर एवं मां थी शिक्षिका, बेटा है चोर यह सुनकर ही मां ने कर ली थी आत्महत्या
हावड़ा, हुगली, आसनसाेल में कई चोरी की घटना को दिया अंजाम
हावड़ा : सांकराइल के दुलिया में गत 9 जून को हुई एक चोरी की घटना की छानबीन करते हुए पुलिस ने एक चोरों के गिरोह का पर्दाफाश किया है। इस घटना में पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ़्तार किया है । इस गिरोह के मास्टर माइंड इंग्लिश में मास्टर्स डिग्री की पढ़ाई की है। एम.ए पास यह नटवरलाल अपना चोरी का धंधा धड़ल्ले से चला रहा था। उसने बताया कि चोरी उसका पेशा नहीं बल्कि नशा है। इसमें उसका साथ उसके दो और साथी देते थे। गिरफ्तार लोगों के नाम सौमल्य चौधरी, प्रकाश शास्मल एवं माधव सामंत है। ये सभी आसनसोल के रहने वाले हैं। इनके पास से पुलिस ने ककरीब 10 लाख रुपये के 15 भरी सोने के आभूषण को जब्त किया है। रविवार को तीनों को हावड़ा कोर्ट में पेश क‌िया गया जहां से उन्हें पुलिस हिरासत में भेज दिया गया ।
सांकराइल में हुई चोरी के बाद हुआ पर्दाफाश
दरअसल गत 9 जून को सांकराइल के रहने वाले अभिज्ञान घोष ने थाने में चोरी की शिकायत दर्ज कराई। उन्होंने अपनी शिकायत में बताया कि दो लोग स्कूटी में सवार होकर उनके घर पहुँचे और उनसे कहा कि वे एक बैंककर्मी है। यह कहकर उन्होंने उसके घर से करीब 15 भरी सोना चुरा लिया। इनकी बाजार में कीमत 10 लाख रुपये थे। हालाँकि इसी दौरान अभिज्ञान के पड़ोसी ने चुपके से उक्त चाेरों की स्कूटी के नंबर को नोट कर लिया था। बाद में अभिज्ञान ने वे सारे सबूत पुलिस को दे दिया। पीड़ित द्वारा तुरंत शिकायत दर्ज करने के आधार पर पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू की तो पता चला कि यह स्कूटी नंबर आसनसोल का है। वहां से यह जानकारी मिली कि इस नंबर की स्कूटी मिदनापुर इलाके में देखी गयी है। पुलिस ने सूत्रों के आधार पर सौमल्य व प्रकाश के साथ एक और साथी को पकड़ लिया।
हावड़ा, हुगली और आसनसोल मैं कर चुके हैं कई चोरियां
सौमल्य व प्रकाश ने बताया कि दोनों चोरी के माल को दासपुर के रहने वाले एक सोनार माधव सामंत को बेच रहे थे। पुलिस ने उक्त सोनार को भी उनके साथ ही पकड़ लिया था। तीनों से हुई लगातार पूछताछ में ये पता चला है कि ये लोग केवल हावड़ा में नहीं बल्कि हुगली और आसनसोल में भी चोरी की घटना को अंजाम देते थे। अब तक इन्होंने 3 साल में 150 चोरी की घटनाओं को अंजाम दे दिया है, जिसमें हावड़ा व हुगली में छह चोरियां शामिल हैं। पुलिस का कहना है कि अब वे इन्हीं चोरियों के लिंक से बाक़ी चोरियों के मामले को भी सुलझाने की कोशिश करेंगे।
सभ्य फ़ैमिली का होने पर भी चुना चोरी का रास्ता
पुलिस ने बताया कि सौमल्य के पिता कानपुर में सेल कंपनी के ऑफ़िसर रह चुके हैं। वहीं उसकी मां एक शिक्षिका थी लेकिन जैसे ही उनकी माँ को ये जानकारी हुई कि उनका बेटा चोरी करने लगा है तभी उसकी माँ ने आत्महत्या कर ली थी । इस घटना के बाद सौमल्य ने अपना घर छोड़ दिया। खुद इंग्लिश में मास्टर्स की डिग्री हासिल के बाद भी उसने एक गिरोह तैयार किया। उसने चोरी का रास्ता अपना लिया। उसने बताया कि चोरी उसका पैसा नहीं बल्कि नशा है और उसे चोरी करने में मज़ा आता है। डीसी साउथ प्रतीक्षा झारकरिया ने बताया कि हावड़ा में गत दिनों जितनी भी चोरियां हुई है उसमें से 6 चोरियों में इस गिरोह का नाम शामिल है। इसके अलावा हावड़ा व हुगली मिलाकर इनके ग्रुप ने 16 चोरियां की है। पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

अब कोलकाता पुलिस के कर्मी कर सकेंगे स्वेच्छा से अंगदान

ऑर्गन डोनेशन के लिए भी भर सकते हैं फॉर्म सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : अगर कोई अंगदान करना चाहता है और उसे नियम नहीं पता तो उसकी मुश्क‌िल आगे पढ़ें »

ऊपर