नहीं चलीं लोकल ट्रेनें, पर स्टाफ लोकल में भीड़ संभलने का नाम नहीं

नियमों को ताक पर रखकर भीड़ का हिस्सा बन रहे हैं लोग
हावड़ा : आज से सड़कों पर बसें, ऑटो और टैक्सियां दौड़ने लगी हैं, परंतु राज्य सरकार ने अब तक लोकल ट्रेनों व मेट्रो को हरी झंडी नहीं दिखाई है। एक ओर रेलवे के अनुसार वे 50 प्रतिशत यात्रियों के साथ ट्रेनों के परिचालन के ​लिए तैयार हैं लेकिन इसके बावजूद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने साफ इनकार करते हुए कहा कि ट्रेनों के चलने से संक्रमण फैलेगा। वहीं कोरोना का संक्रमण भले ही अभी पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है, लेकिन पॉजिटिव केसों की संख्या घटते ही एक जुलाई यानी आज से पूरी व्यवस्था अनलॉक हो रही है। बसों का आवागमन बहाल हो चुका है लेकिन अभी भी लोकल ट्रेनों का आवागमन बंद है, जिसका खामियाजा हजारों यात्रियों को शारीरिक परेशानी के साथ-साथ आर्थिक शोषण के रूप में भुगतना पड़ रहा है।
स्टाफ स्पेशल में बढ़ रही है भीड़
रेलवे के अनुसार स्टाफ लोकल ट्रेनों की संख्या भले ही बढ़ा दी गयी लेकिन उसमें भीड़ भी क्रमश: बढ़ रही है। स्टाफ लोकल में केवल रेल कर्मी नहीं बल्कि बैंक कर्मी, स्वास्थ्य कर्मी, एलआईसी कर्मी व मीडिया कर्मी समेत कई सरकारी नौकरी करनेवाले लोगों की भीड़ दिख रही है। बुधवार को भी हावड़ा के न्यू कॉम्प्लेक्स में यात्रियों की भीड़ देखने को मिली जहां पर लोग स्टाफ स्पेशल से पहुंचे थे।
चौगुना किराया देकर आना-जाना कष्टदायक
दूसरी ओर कोरोना और लॉकडाउन की वजह से लोगों की आय पर काफी फर्क पड़ा है। ऐसे में लोगों को निजी वाहन से लेकर अन्य वाहनों में यात्रा करना बहुत कष्टदायक साबित हो रहा है। कोरोना के भयावह रूप के कारण लॉकडाउन की बंदिशें झेल रहे लोगों को आज से जैसे-तैसे राहत मिली, लेकिन उनकी परेशानी बढ़ती महंगाई के साथ-साथ किराया बढ़ोतरी व रेलवे के आवागमन पूरी तरह से बहाल न होने ने बढ़ा दी है। लॉकडाउन की वजह से हुए आर्थिक नुकसान के बाद बढ़ा हुआ किराया देना आम आदमी के बजट से बाहर हो गया है। वर्तमान में यह स्थिति है कि एक सामान्य व्यक्ति घर से बाजार जाने का किराया तक नहीं दे पा रहा है। इस समय कोई भी लोकल ट्रेन चालू नहीं है। जिसमें सामान्यत: किराया कम रहता है। साथ ही वह लगभग छोटे स्टेशनों पर भी रुकती है, जिसका फायदा उन यात्रियों को होता है जहां आवागमन के लिए बस सुविधा उपलब्ध नहीं है। ट्रेनें न चलने से यात्रियों को बहुत ज्यादा परेशानी झेलनी पड़ रही है।
बाजारों व रोड पर हो रही है लोगों की भीड़
राज्य सरकार ने 15 जुलाई तक सख्ती की बात कही है, लेकिन इसके बावजूद बुधवार को भी हावड़ा की सड़कों पर लोगों की भीड़ देखने को मिली। हावड़ा मैदान से जीटी रोड और काजीपाड़ा मोड़ तक रोड पर लोग दिखाई दे रहे थे। कइयाें के मुंह पर तो मास्क तक नजर नहीं आये। इसे लेकर प्रशासन चि​तिंत नजर आया, क्योंकि कई इलाके तो माइक्रो कंटेनमेंट जोन के अंतर्गत आते हैं। वहीं पुलिस को इन नियमों का पालन करवाने का निर्देश दिया गया है। टोटो के खिलाफ भी कार्रवाई करने को कहा गया है, क्योंकि आरोप है कि बिना नियमों का पालन किए टोटो में एक साथ चार यात्रियों को ले जाया जा रहा है। सीएमओएच निताई चंद्र मंडल ने कहा कि लोग अगर बेपरवाह होकर रोड पर निकलेंगे तो संक्रमण का खतरा बढ़ जायेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

अगर आता है बहुत ज्यादा गुस्सा तो मंगलवार को हनुमान जी के इन उपायों से होगा लाभ

कोलकाता : भागदौड़ भरी जिदगी में टेंशन ज्यादा है सुकून कम। लोग धैर्य और सहनशक्ति खोते जा रहे हैं और यही कारण है कि क्रोध आगे पढ़ें »

ऊपर