मौलाली में वाम समर्थकों ने पुलिस कर्मी को पीटा, फाड़ी वर्दी

तालतल्ला थाना के ओसी से की गयी धक्का-मुक्की
पुलिस मॉर्ग के सामने भी पुलिस कर्मियों से की गयी धक्का-मुक्की
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : वाम समर्थक की मौत को केन्द्र कर सोमवार को मौलाली क्रॉसिंग रणक्षेत्र में तब्दील हो गया । इस दौरान डीवाईएफआई व एसएफआई समर्थकों ने एक पुलिस कर्मी की जमकर पिटायी कर दी। यही नहीं उसकी वर्दी भी फाड़ दी। घायल पुलिस कर्मी ने किसी तरह अन्य युवक की मदद से अपनी जान बचायी। इस दौरान वहां मौजूद तालतल्ला थाना के ओसी से भी धक्का-मुक्की की गयी। घायल पुलिस कर्मी तालतल्ला थाने में एएसआई के पद पर कार्यरत हैं। घायल पुलिस कर्मी को अस्पताल से प्राथमिक इलाज के बाद छोड़ दिय गया। ज्वाइंट सीपी हेडक्वार्टर्स शुभंकर स‌िन्हा सरकार ने बताया कि पुलिस कर्मी पर हमले के मामले में शिकायत मिलने पर अभियुक्तों के खिलाफ कानून के तहत कार्रवाई की जाएगी।
क्या है पूरा मामला

डीवाईएफआई कर्मी मईनुल ईस्लाम ‌मिद्दा के विरोध में सोमवार की दोपहर इंटाली के दिनेश मजुमदार भवन के समक्ष वाम छात्र व .युवक एकत्रित हुए थे। इस दौरान वहां पर आए पुलिस कर्मियों के साथ वाम समर्थकों का अचानक विवाद हो गया। आ्रपो है कि वाम समर्थकों ने तालतल्ला थाने के ओसी के धक्का-मुक्की की। साथ ही एएसआई की जमकर पिटायी कर दी आरपो है कि एएसआई को वाम समर्थकों ने दौड़ाकर पीटा। हमले के दौरान पुलिस कर्मी की वर्दी फाड़ दी गयी। इस दौरान पुलिस कर्मी ने किसी तरह वहां से भागकर अपनी जान बचायी। हमले में पुलिस के कर्मी के सिर व चेहरे में चोट आयी है। काउी देर तक एजेसी बोस रोड पर ट्रैफिक अवरोध किया गया। बाद में पुलिस नेट्रैफिक यातायात को स्वाभाविक किया। एसएफआई के प्रदेश सचिव ने बताया कि पुलिस कर्मी असभ्य भाषा में गाली-गलौज कर रहे थे। पुलिस कर्मियों को गाली देते सुनकर युवक भड़क गए और झड़प होने लगी। उन्होंने बताया कि एसएफआई समर्थकों ने ही पुलिस कर्मी को हमलावरों के हाथों से बचाया। वहीं इससे पहले मो.अली पार्क के निकट स्थित कोलकाता पुलिस मॉर्ग के सामने भी पुलिस और वाम समर्थकों में विवाद हो गया। जानकारी के अनुसार सोमवार की दोपहर कोलकाता पुलिस मॉर्ग के समक्ष वाम समर्थक पोस्टमॉर्टम के लिए एकत्रित हुए थे। आरोप है कि इस दौरान एक पुलिस कर्मी के हाथों में लाठी देख वाम समर्थक भड़क गए और और पुलिस पर डराने का आरोपलगाते हुए प्रदर्शनकरने लगे। इस दौरान पुलिस और वाम समर्थकों में धक्का-मुक्की भी हुई। बाद में पुलिस ने स्थित‌ि को नियंत्रित किया। इसके अलावा वाम समर्थकों ने पुलिस पर पोस्टमॉर्टम में देरी करने का आरोप लगाया। वाम समर्थकों का आरोप है कि पोस्टॉमर्टम को लेकर हर बार तरह-तरह के बयान दिये जा रहे हैं। माकपा नेता सुजन चक्रवर्ती ने पोस्टमार्टम में देरी होने पर मृत मईनुल का शव को लेकर सीएम के घर जाने की धमकी दी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

..कम बजट में ऐसे सजाएं घर

कोलकाता : अगर घर साफ-सुथरा और सुव्यस्थित रहता है तो न सिर्फ हमारा दिमाग शांत रहता है, बल्कि मन भी प्रसन्न रहता है। घर सजाने आगे पढ़ें »

इस बार बंगाल चुनाव में जाति निभायेगी अहम भूमिका

एक तरफ हिन्‍दू वोट तो दूसरी ओर मुस्‍लिम वोट ध्रुवीकरण की कोशिश में जुटी पार्टियां सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : लगभग 10 करोड़ की आबादी वाले पश्चिम बंगाल में आगे पढ़ें »

ऊपर