मानसून की दस्तक से ही सियालदह फ्लाईओवर पर परतें उखड़ने लगी, बनने लगे गड्ढे

कोलकाता : दो दिन पहले ही मानसून ने कोलकाता में दस्तक दी है। जमकर अभी बारिश भी नहीं हुई है कि कई रास्तों को लेकर लोगों की चिंता बढ़ गयी है। ऐसा ही सियालदह फ्लाईओवर का हाल हो रहा है। महानगर के सबसे व्यस्त फ्लाईओवर में सियालदह फ्लाईओवर शामिल है। यहां हालत यह होती जा रही है कि परते हटने लगी है। कुछ हिस्सों पर गड्ढे भी बन गये है। सबसे ज्यादा पस्त हालत ट्राम लाइन पर देखा जा रहा है। ऐसे में बाइकर्स के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक हो जाता है। उल्लेखनीय बारिश शुरू हो जाने के बाद सड़क मरम्मत के काम लगभग नहीं के बराबर होती है। इस दौरान काम करने में बाधा आती है। वहां से आने जाने वाले लोगों का कहना है कि फ्लाईओवर पर परते काफी समय पहले से हटने लगी थी। उसी समय फ्लाईओवर की हालत सुधार लेनी चाहिए थी।
कई बार बाइकर चोटिल भी हो चुके
फ्लाइओवर में कई स्थानों में पैच उखड़ गया है। स्थिति यह है कि यहां गहरे गड्ढे हो गए हैं। इससे इन गड्ढों छोटे पहिया के वाहन गिर कर असंतुलित हो जाते हैं। कई बार बाइकर चोटिल भी हो चुके हैं। कुछ बाइकर का कहना है कि तेज गति से जाने के दौरान सबसे ज्यादा डर बना होता है। कब गड्ढा आ जाए पता ही नहीं। तेज रफ्तार में ब्रेक लगाने पड़ें तो गाड़ी अनियंत्रित होने का डर रहता है।
फ्लाईओवर पर वाहनों का दबाव बढ़ा
उल्लेखनीय है कि माझेरहाट ब्रिज हादसे के बाद से ही राज्य सरकार ने सभी बड़े व पुराने फ्लाईओवर का हेल्थ चेकअप कराने का निर्देश दिया है। केएमडीए द्वारा सियालदह फ्लाईओवर की भी हेल्थ चेकअप की गयी है। सूत्रों के मुताबिक सियालदह फ्लाईओवर पर वाहनों का दबाव समय के साथ बढ़ा है। एक बार फिर सियालदह फ्लाईओवर पर बनते गड्ढे ने वहां से यातायात करने वालों के लिए चिंता बढ़ा दी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

कोरोनाकाल भूल गया कुम्हारटोली, प्री कोविड वाली रौनक लौटने लगी

10 दिन पहले ही प्रतिमा आ जायेगी पंडालों में यूनेस्को ने बंगाल के दुर्गापूजा उत्सव को दिया है सांस्कृतिक विरासत का दर्जा एक नजर इस पर कोलकाता में आगे पढ़ें »

ऊपर