पुरानी स्थिति की ओर लौट रहा है कोलकाता का रियल इस्टेट

सबसे लोकप्रिय व्यावसायिक क्षेत्र है साल्टलेक
दक्षिण कोलकाता में बिक्री अधिक
माइक्रो मार्केट के लिए पसंद बना उत्तर कोलकाता

मधु सिंह
कोलकाता : नाइट फ्रैंक इंडिया की ओर से इंडिया रियल इस्टेट पर जुलाई से दिसम्बर 2020 तक की अर्द्धवार्षिक रिपोर्ट लांच की गयी। इस रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2020 की शुरुआत क्वार्टर 1 में बंपर तरीके से हुई लेकिन कोरोना महामारी के कारण हुए लॉकडाउन से क्वार्टर 2 में लीजिंग एक्टिविटी काफी कम हो गयी। वहीं अनलॉक में जिस तरह जीवन पटरी पर आने लगा, इसके बाद क्वार्टर 3 में 2019 के क्वार्टरली औसत की तुलना में ऑफिस लीजिंग 62% तक पहुंच गयी। क्वार्टर 4 में यह बढ़कर 68% तक पहुंच गयी है।
हाफ टू में हुई 5975 रेसिडेंशियल की बिक्री
रिपाेर्ट में बताया गया है कि 2020 के हाफ टू में कुल 5975 रेसिडेंशियल यूनिट्स की बिक्री हुई है। घर खरीदने वालों की प्रमुखता ऐसी परियोजनाओं पर रहीं जिनकी कीमत 50 लाख रु. तक है और जो घर लगभग तैयार थे, उनकी बिक्री अधिक हुई। हाफ टू में मांग की तुलना में सप्लाई कम रहने के कारण लगातार तीसरे साल अनसोल्ड इनवेंटरी में घाटा दर्ज किया गया। वर्ष 2020 में अनसोल्ड इनवेंटरी में 14% तक कमी दर्ज की गयी।
साल्टलेक और रा​जरहाट सबसे बिक्री वाले व्यावसायिक क्षेत्रों में
सबसे लोकप्रिय व्यावसायिक जिलों में साल्टलेक व राजरहाट है। यहां लीज दिये जाने वाले कार्यालयों में शहर के कुल ट्रांजेक्शन वोल्यूम का बड़ा भाग निर्भर करता है। सेकेंड हाफ में शहर के कुल लीजिंग वोल्यूम का 48% हिस्सा राजरहाट से आया।
रेसिडेंशियल की कीमतों में 4% की कमी
हाफ टू में शहर के रेसिडेंशियल प्रोडक्ट्स की कीमतें 4% कम की गयीं। रिपोर्ट के अनुसार, 2020 के पहले हाफ में कम बिक्री के कारण दूसरे हाफ में कीमत कम करने का निर्णय लिया गया।
जोका व आस-पास के इलाकों में हुई अधिक बिक्री
दक्षिण कोलकाता में बिक्री सबसे अधिक हुई। वर्ष 2019 में कुल बिक्री का 35% दक्षिण कोलकाता से आया था जबकि 2020 के दूसरे हाफ में यह बढ़कर 42% हाे गया। विशेषकर जोका व आस-पास के इलाकों में मेट्रो कनेक्टिविटी के कारण अधिक बिक्री हुई। पिछले कुछ वर्षों में द​क्षिण कोलकाता में निर्माण कार्य भी काफी अधिक हुआ है, ऐसे में नये लांच का एक तिहाई हिस्सा हमेशा ही इस माइक्रो मार्केट से आता है और शहर के लोगों के लिए दक्षिण कोलकाता बेहतर रेसिडेंशियल डेस्टिनेशन में बदल गया है। 2020 के हाफ टू में कुल बिक्री हुई रेसिडेंशियल यूनिट का 21% हिस्सा राजरहाट से आया।
व्यवसाय से रेसिडेंशियल के तौर पर उभर रहा उत्तर कोलकाता
कुछ वर्षों पहले तक इंडस्ट्रियल बेल्ट के तौर पर मशहूर उत्तर कोलकाता गरिया से दमदम एयरपोर्ट लाइन का मेट्रो का कार्य शुरू होने के बाद से रेसिडेंशियल लोकेशन के तौर पर भी उभर रहा है। सोदपुर, बीटी रोड, मध्यमग्राम और जैसोर रोड के इलाकों में मध्यमवर्ग के लोगों के लिए भी कई तरह के नये प्रोजेक्ट लाये गये हैं। शहर की कुल बिक्री का 20% हिस्सा उक्त इलाकों से आया है। वहीं पश्चिम कोलकाता में शहर की कुल बिक्री का 12% आया। इस बेल्ट में सामाजिक बुनियादी ढांचे में कमी के कारण 2019 के पहले हाफ से ही यहां बिक्री कम है।
25 से 50 लाख की प्रोपर्टी की बिक्री सबसे अधिक हुई
2020 के सेकेंड हाफ में कुल रेसिडेंशियल लांच में 25 से 50 लाख रु. तक की प्रापर्टी की बिक्री 62% हुई जबकि 50 लाख रु. से अधिक की प्रापर्टी की बिक्री 22% और 25 लाख के आस-पास के प्रापर्टी की बिक्री 16% हुई।
क्या कहते हैं रियल इस्टेट से जुड़े लोग
सर्वे करने वाले नाइट फ्रैंक इंडिया, कोलकाता के ब्रांच डायरेक्टर स्वपन दत्ता ने कहा, ‘क्वार्टर 2 में महामारी के कारण रियल इस्टेट व्यवसाय पर बुरी मार पड़ी थी, लेकिन स्थितियां स्वाभाविक होने के साथ हाफ टू में स्थिति में सुधार दर्ज किया गया है। 2019 की तुलना में 2020 के अंत तक स्थिति काफी हद तक स्वाभाविक हुई है और आगे यह और ठीक होने की उम्मीद है। छोटी कंपनियां माइक्रो मार्केट में जगह ले रही हैं, इस कारण आने वाले वर्षों में राजरहाट-न्यूटाउन ऑफिस स्पेस के लिए सबसे पसंदीदा जगह रहेगी।’ वहीं क्रेडाई बंगाल के अध्यक्ष व मर्लिन ग्रुप के चेयरमैन सुशील मोहता ने कहा, ‘महामारी के बाद बिक्री हुई इनवेंटरी और बगैर बिक्री वाले इनवेंटरी को लेकर डेवलपर काफी चिंतित थे और उस समय डेवलपर केवल चालू परियोजनाओं पर ही फोकस कर रहे थे। नये प्रोडक्ट लांच करने में कोई उत्साहित नहीं था जिससे मौजूदा इनवेंटरी की बिक्री में मदद मिली। रेसिडेंशियल के साथ कॉमर्शियल रियल इस्टेट की कीमतें पिछले 5 वर्षों में एक ही हैं। उम्मीद है कि मार्च, अप्रैल में कुछ और प्रोजेक्ट के लांच के साथ रियल इस्टेट व्यवसाय में और सुधार आयेगा। होम लोन में कम ब्याज दर के साथ पुरानी कीमत के कारण अच्छी बिक्री हुई। गत अक्टूबर महीने से कोलकाता में बिक्री अच्छी हुई और नवम्बर/दिसम्बर महीने में ही रियल इस्टेट इंडस्ट्री कोरोना से पहले के स्तर में पहुंच गयी। शुरुआत के 3 महीने भी अच्छे होने वाले हैं।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

घर में कहां पर हो किचन और डाइनिंग रूम, जानें ये 7 महत्वपूर्ण बातें

कोलकाता : रसोईघर का दक्षिण-पूर्व यानी आग्नेय कोण में होना आदर्श है। अपार्टमेंट में फ्लैट के अन्य कमरों की तुलना में रसोईघर हमेशा छोटा होता आगे पढ़ें »

शनिदेव के प्रकोपों से चाहते हैं मुक्ति तो खाएं ये 5 चीजें

कोलकाता : ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक शनि देव न्याय के देवता माने जाते हैं। शनि देवता की पूजा के लिए शनिवार का दिन सबसे उत्तम आगे पढ़ें »

ऊपर