महानगरः थर्ड वेव की आहट

किसी ने बढ़ाए बेड तो किसी ने तैयार किया स्पेशल टॉस्क फोर्स
स्वास्थ्य विभाग ने निजी अस्पतालों को पेडियाट्रिक कोविड यूनिट तैयार रखने का दिया निर्देश
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः देश में कोरोना वायरस के थर्ड वेव की संभावना के मद्देनजर अनेकों तैयारी की जा रही है। राज्य में भी सरकारी अस्पतालों में पेडियाट्रिक यूनिट तैयार रखने के लिए कहा गया है। इसी के तहत स्वास्थ्य विभाग ने निजी अस्पतालों को भी अपने कोविड यूनिट तैयार रखने को कहा है।
नर्सों को किया जा रहा प्रशिक्षित
आईएलएस ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल के उपाध्यक्ष देवाशिष धर ने कहा कि हम अपनी नर्सों को भी विशेष तौर पर प्रशिक्षित कर रहे हैं। नीकू व पीकू की वर्तमान प्रशिक्षित नर्सें ही अन्य नर्सों को प्रशिक्षण दे रही हैं। इसके अलावा नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट (नीकू) व पेडियाट्रिक इंटेसिव केयर यूनिट (पीकू) को हमने तैयार कर रखा है।
पीयरलेस अस्पताल के सीईओ सुदीप्त मित्रा ने कहा कि दूसरी लहर ने हमें समय में अंतराल की पहचान करना सिखाया है। हमारे पास नीकू यूनिट हैं। ऐसे में हम पूरी तरह से थर्ड वेव के लिए तैयार हैं।
कोविड पेडियाट्रिक टॉस्क फोर्स गठित
आमरी ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स के ग्रुप सीईओ रूपक बरुआ ने कहा कि हमने एक बाल चिकित्सा कोविड टास्क फोर्स का गठन किया है, जो कि थर्ड वेव की आशंका के मद्देनजर तत्पर रहेगी। हमारी मुकुंदपुर इकाई को बाल चिकित्सा कोविड देखभाल के मुख्य केंद्र के रूप में पहचाना गया है, क्योंकि हमारे पास एक अत्याधुनिक पीकू और नीकू है।
दिशन हॉस्पिटल के डिप्टी मैनेजिंग डॉयरेक्टर तापस मुखर्जी ने कहा कि हमारे पास पेडियाट्रिक इकाई की परेशानी है। हालांकि हम कोशिश कर रहे हैं कि थर्ड वेव की संभावना के मद्देनजर अपने एक बिल्डिंग के एक तल्ले को इसके लिए तैयार करें। इसके ‌लिए हम पूरे प्रयास कर रहे हैं। सब कुछ सही रहा तो हम पेडियाट्रिक के लिए अलग इकाई तैयार कर लेंगे।
30 हजार बच्चे पहले ही हो चुके हैं संक्रमित
सरकारी अस्पतालों में बाल चिकित्सा कोविड सुविधाओं को पुनर्जीवित करने की एक व्यापक योजना के बाद, स्वास्थ्य अधिकारियों ने निजी अस्पतालों को तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर अपनी बाल चिकित्सा इकाइयों को तैयार रखने का निर्देश दिया है।
पेडियाट्रिशियन डॉ. लोकेश पाण्डेय ने कहा कि एक सर्वे में मिला था कि 50% बच्चों की पहले ही एंटीबॉडी पॉजिटिव मिल चुकी है। सितंबर के अंत या अक्टूबर के शुरुआती दौर में थर्ड वेव के आने की संभावना एक्सपर्ट जता रहे हैं। ऐसे में लोगों को जागरूक रहकर इसका मुकाबला करना होगा।
स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि सितंबर-अक्टूबर तक तीसरी लहर आ सकती है और बड़ी संख्या में बच्चे संक्रमित हो सकते हैं। सूत्रों की मानें तो सेकेंड वेव में ही अब तक 30 हजार के करीब बच्चे पॉजि‌टिव मिल चुके हैं। हालांकि 50% से अधिक घर पर ही ठीक हो गए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

भाजपा सोच भी नहीं सकती कि ऐसे बड़े नेता आना चाहते हैं तृणमूल में – फिरहाद

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : बाबुल सुप्रियो के बाद और कई बड़े नाम जल्द तृणमूल से जुड़ने जा रहे हैं। ऐसा ही संकेत दिया राज्य के परिवहन आगे पढ़ें »

ऊपर