जानें, बंगाल में दीदी की जीत के मुख्‍य कारण

कोलकाताः बंगाल विधानसभा चुनाव में जीत के लिए अपनी पूरी ताकत झोंकने के बावजूद भाजपा, ममता बनर्जी की अगुवाई वाली तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) को सत्ता से हटाने का लक्ष्य हासिल नहीं कर पाई। विश्लेषकों की मानें तो ममता बनर्जी की तेजतर्रार छवि, बंगाली अस्मिता, महिलाओं और अल्पसंख्यकों का टीएमसी की ओर बड़ा झुकाव का सीधा फायदा तृणमूल को मिला।

दरअसल, तृणमूल ने भाजपा की हिंदू वोटों की ध्रुवीकरण की कोशिश की काट करने के लिए ‘बंगाल को चाहिए अपनी बेटी का नारा देकर महिला वोटरों को बड़े पैमाने पर अपने पाले में खींचा। ममता ने 50 महिला उम्मीदवारों को इसी रणनीति के तहत इस बार मैदान में भी उतारा था। इसके साथ ही दूसरे राज्यों से आने वाले भाजपा नेताओं के ममता बनर्जी पर सीधे हमले के मुद्दे को भुनाते हुए टीएमसी ने स्थानीय बनाम बाहरी का दांव खेलकर बांग्ला संस्कृति, बांग्ला भाषा और बंगाली अस्मिता के फैक्टर को हर जगह उभारा।

इधर, भाजपा के पास न तो मुख्यमंत्री पद का कोई चेहरा था और ना ही कोई तेजतर्रार महिला नेता जो ममता को उनकी शैली में जवाब दे पाता। भाजपा की भारी-भरकम चुनावी मशीनरी का अकेले मुकाबला कर रहीं ममता का नंदीग्राम में चुनाव प्रचार के दौरान घायल हो जाना भी निर्णायक बातों में एक रहा। ममता बनर्जी ने चोट के बावजूद व्हील चेयर से ही जिस तरह से लगातार धुआंधार प्रचार किया और भाजपा नेतृत्व के खिलाफ आक्रामक हमला बोला, उससे यह छवि बनी कि घायल शेरनी ज्यादा मजबूती से मोर्चा संभाले हुए हैं। ऐसे में सहानुभूति की फैक्टर भी उनके पक्ष में गया।

दूसरा, चुनाव प्रचार के दौरान ममता बनर्जी पर पीएम मोदी, अमित शाह जैसे बड़े केंद्रीय नेताओं का सीधा हमला भी उनके लिए सहानुभूति का काम कर गया। दीदी ओ दीदी, दो मई-दीदी गईं, दीदी की स्कूटी नंदीग्राम में गिर गई जैसे बयान भाजपा पर उल्टे पड़े। बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष का ममता के लिए बरमूडा वाला बयान भी महिलाओं के बीच अच्छा संदेश नहीं गया। इन बयानों को भुनाने में टीएमसी ने कोई कसर नहीं छोड़ी। सहानुभूति कार्ड काम आया और यह ममता के पक्ष में गया। इसी का परिणाम है कि लगातार तीसरी बार ममता बंगाल की सत्ता पर काबिज होने पर कामयाबी हासिल की है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद राजीव सातव का कोरोना से उबरने के बाद निधन

पुणे: कांग्रेस सांसद राजीव सातव का रविवार को एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। कुछ दिनों पहले ही वह कोविड से उबर गए थे। आगे पढ़ें »

जब राहुल गांधी ने कहा- ‘मुझे भी गिरफ्तार करो’

नई दिल्ली : पीएम मोदी के खिलाफ जिस पोस्टर को लेकर दिल्ली में गिरफ्तारियां हुई हैं, कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने भी आगे पढ़ें »

ऊपर