केएमसी : वेवर स्कीम से निगम के खजाने में आये 220 करोड़ रुपये

50 फीसदी लोग कर रहे है ऑनलाइन भुगतान
28 फरवरी तक 350 करोड़ रूपये आय करने की उम्मीद
कोलकाता : कोलकाता नगर निगम के वेवर स्कीम के आने के बाद लोग बकाया कर जमा करने में अधिक दिलचस्पी ले रहे है और यही वजह है कि अब निगम के खजाने में लगभग 220 करोड़ रुपये जमा हो चुकें है। केएमसी सूत्रों की मानें तो ऐसे कयास लगया जा रहा है कि 28 फरवरी तक 350 करोड़ रूपये आय हो सकती है। जो कि कहीं ना कहीं कोलकाता नगर निगम के लिये एक बड़ी उपल्बधी बन सकती है। केएमसी सूत्रों की मानें तो कुछ ऐसे भी करदाता हैं, जिन्होंने वेवर स्कीम के लिए आवेदन तो किया है पर अब तक कर का भुगतान नहीं किया है। ऐसे लोग अगर 28 फरवरी तक कर की भुगतान नहीं पर पाते हैं तो उन्हें ब्याज व जुर्माना दोनों ही देना पड़ सकता है और उनके खिलाफ अब निगम सख्त कार्रवाई भी कर सकता है। गौरतलब है कि बकाया संपत्ति कर की वसूली के लिए पिछले साल अक्टूबर महीने में कोलकाता नगर निगम वेवर स्कीम का शुभारंभ कियाहै। इसके तहत करदाताओं को ब्याज व जुर्माने की राशि में छूट दी जा रही है। मई 2021 तक यह परिसेवा जारी रहेगा। लेकिन करदात्ता 28 फरवरी तक ही आवेदन कर सकेंगे। इस योजना के लागू करते वक्त निगम को अंदाजा था कि वह 31 दिसंबर तक कर से करीब 300 करोड़ रुपये की वसूली कर लेगा। पर ऐसा नहीं हुआ इसलिए निगम ने आवदेन करने की अंतिम तिथि को 31 दिसंबर से बढ़ा कर 31 जनवरी किया। इसके बाद भी जनवरी महीने तक निगम करीब 144 करोड़ रुपये की वसूली कर पाया और ऐसे में फिर से आवेदन करने की तिथि को बढ़ाना पड़ा।
50 फीसदी लोग कर रहे हैं ऑनलाइन भुगतान
कोलकाता नगर निगम के सूत्रों की मानें तो कोरोना काल के समय से लोग ऑनलाइन कर भुगतान करने में ज्यादा दिलचस्पी ले रहे है। जिसकी वजह है कि पहले जहां लोग 20 से 25 फीसदी लोग ही ऑनलाइन पमेंट करते थे वहां अब 50 फीसदी लोग ऑनलाइन भुगतान कर रहे है। निगम सूत्रों की मानें तो सारी टैक्स से लेकर लाइसेंस से जुड़े कार्यों के लिये ऑनलाइन प्रक्रिया पर विशेष जोर दिया जा रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

इस दिशा में सिर रखकर भूलकर भी न सोएं, जानिए किस तरह सोने से मिलेगा लाभ

कोलकाताः अच्छी सेहत के लिए भरपूर नींद लेना जरूरी है। दिनभर थकने के बाद हम रात को सोते समय इस बात का ध्यान नहीं रखते आगे पढ़ें »

यहां बोरिंग से पानी की जगह निकल रही है आग

मध्य प्रदेश : प्राकृतिक खनिजों से भरे मध्य प्रदेश से एक और हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है। राज्य के दमोह जिले के आगे पढ़ें »

ऊपर