10वीं मंजिल से कूदकर जौहरी ने दी जान

कोलकाता: कोरोना महामारी ने कई लोगों की जिंदगी लील ली है। महामारी के ‌कारण कई लोगों ने अपना रोजगार खो दिया तो कई लोगाें का कारोबार ठप हो गया। ऐसे में कई लोगों ने मानसिक तनाव के कारण मौत को गले लगाने का विकल्प बेहतर समझा। ऐसी ही घटना सामने आई है गिरीश पार्क से। यहां एक 64 वर्षीय जौहरी ने गुरुवार को आत्महत्या कर ली। जौहरी ने हाल ही में अपनी पत्नी को खो दिया था और लॉकडाउन के कारण उसका व्यवसाय भी बुरी तरह से प्रभावित था। इसी से तंग आकर उन्होंने गिरीश पार्क क्षेत्र में अपने भाई के 10वीं मंजिल के फ्लैट से छलांग लगा दी। यह घटना मदन चटर्जी स्ट्रीट पर दोपहर करीब 12.45 बजे हुई। पुलिस ने कहा कि वरिष्ठ नागरिक महेश कुमार सराफ वित्तीय समस्याओं से जुझ रहे थें। जांच अधिकारी ने बताया कि सराफ बनारसी घोष स्ट्रीट के निवासी थे और उन्होंने कथित तौर पर अपने भाई, चंद्र कांत को बताया था कि वह कुछ महत्वपूर्ण व्यवसाय के काम के कारण उसके फ्लैट में आए हैं।
पत्नी के निधन के सदमे से नहीं उबरे थे
अधिकारी ने आगे कहा कि “पूछताछ के दौरान, यह पता चला कि 64 वर्षीय जौहरी का बड़ाबाजार में एक रत्न और आभूषण की दुकान था और लॉकडाउन की शुरुआत से ही उसके व्यवसाय में नुकसान हो रहा था और अनलॉक होने के बाद भी उनके व्यापार में खास प्रगति नहीं देखी गई। सराफ का जीवन ज्ञापन अपने बेटे और बेटी से होता था। इसके अलावा, वे अपनी पत्नी के निधन के सदमे से उबर नहीं सक रहे थे। घटनास्‍थल से कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है। एक जांच अधिकारी ने कहा कि उनकी मौत के बाद उनके परिजनाें ने थाने में शिकायत नहीं दर्ज कराई है। डीसी (केंद्रीय) सुधीर कुमार नीलकांतम ने कहा कि उनके मौत के पीछे के सटीक कारण की जांच की जानी चाहिए। हम उन्हें आरजी कर अस्पताल ले गए, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। हमने कार्यवाही शुरू कर दी है और इस कदम के पीछे के सटीक कारण का पता लगाने के लिए जल्द ही उनके परिवार के सदस्यों से बात की जाएगी।
पिछले कुछ महीनों में 50 से अधिक आत्महत्या के मामले
आईपीजीएमईआर में मनोचिकित्सा संस्थान (आईओपी) से जुड़े, एक वरिष्ठ चिकित्सक ने बताया कि “अध्ययनों के अनुसार, आत्महत्या के 90% मामले अवसाद से संबंधित हैं। डिप्रेशन एक साइलेंट किलर है। हमें अवसाद और अन्य मानसिक बीमारियों के बारे में अधिक बात करने की जरूरत है, ताकि बीमारी से जुड़े दिक्कतों को दूर किया जा सके। “इस बीमारी से पीड़ित लोग बहुत देर होने से पहले पेशेवर मदद ले सकते हैं।” शहर में महामारी की मार के साथ, पिछले कुछ महीनों में 50 से अधिक आत्महत्या के मामले सामने आए हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पहले टी-20 में भारत 11 रन से जीता

कैनबराः भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 3 टी-20 की सीरीज के पहले मैच में 11 रन से हरा दिया। टीम इंडिया पिछले 10 टी-20 मैच से आगे पढ़ें »

भारत में न्यूनतम मजदूरी पड़ोसी देशों से भी कम

नई दिल्ली : इंटरनेशनल लेबर आर्गनाइजेशन (आईएलओ) की नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत के मजदूरों पर कोरोना माहामारी और लॉकडाउन की आगे पढ़ें »

ऊपर