जितेन्द्र तिवारी का तृणमूल पर पलटवार, उर्दू को ही बनाया हथियार

आसनसोलः उर्दू कॉलेज खोलने के लिए भेजी तृणमूल सांसदों को चिट्ठी आसनसोल : पश्चिम बर्दवान के आसनसोल में काफी संख्या में उर्दू भाषा-भाषी लोग रहते हैं। उनके बच्चों की आगे की पढ़ाई के लिए आसनसोल के पूर्व मेयर सह भाजपा नेता जितेन्द्र तिवारी केन्द्र व राज्य सरकार के शिक्षा मंत्री से आसनसोल में उर्दू कॉलेज बनाने की मांग कर चुके हैं। अब उन्होंने पश्चिम बंगाल राज्य सहित विभिन्न राज्यों के उर्दू भाषी सांसदों से अपील की है कि वे लोग भी आसनसोल में उर्दू कॉलेज बनाने के लिए संसद में आवाज उठाएं। इसके लिए उन्होंने विभिन्न राज्यों के सांसदों को पत्र भेज कर अपील की है। पत्र में कहा गया है कि पश्चिम बंगाल के आसनसोल में बड़ी संख्या में उर्दूभाषी लोग लंबे समय में रहते आ रहे हैं। उच्च माध्यमिक स्तर तक उर्दू माध्यम विद्यालयों में बड़ी संख्या में छात्र पढ़ रहे हैं। यहां के लोगों की लगातार मांग रही है कि आसनसोल में एक उर्दू माध्यम का कॉलेज खुले। यहां के बच्चों को स्नातक और स्नातकोत्तर की पढ़ाई के लिए दूसरे राज्यों में जाना पड़ता है। वहीं दूसरे राज्यों में जाने में असमर्थ विद्याथियों को बाध्य होकर पढ़ाई छोड़नी पड़ती है। इसका सबसे ज्यादा शिकार छात्राएं होती हैं। कई मौके पर स्थानीय तृणमूल नेताओं और मंत्रियों ने बीते 10 वर्षों से उसी के संबंध में चुनावी वादे किए थे,लेकिन उनके द्वारा कोई कदम या कार्रवाई नहीं की गई। उन्होंने कहा कि कई विद्यार्थियों ने उर्दू माध्यम स्कूलों में पढ़ाई की है, वे अंग्रेजी या बांग्ला माध्यम में उच्च अध्ययन का सामना नहीं कर पाते हैं, जिसके कारण आसपास के राज्यों में पढ़ाई के लिए जाने को मजबूर हैं या स्कूल छोड़ कर घर में बैठ जाते हैं। उन्होंने सभी उर्दू भाषी सांसदों से अनुरोध किया है कि इस गंभीर विषय को लेकर संसद में आवाज उठाएं, ताकि उर्दू भाषी छात्र-छात्राओं को ड्रॉप आउट होने से बचाया जा सके।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

भवानीपुर विधानसभा चुनाव : हाई कोर्ट में निर्णायक सुनवायी आज

निवाचन आयोग को आज दाखिल करना पड़ेगा एफिडेविट सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : भवानीपुर विधानसभा चुनाव को लेकर हाई कोर्ट में दायर पीआईएल पर शुक्रवार को निर्णायक सुनवायी आगे पढ़ें »

ऊपर