कोरोना ब्लास्ट में जादवपुर विवि. के स्टूडेंट्स आये आगे

विश्वविद्यालय कैंपस को सेफ होम बनाने की मांग
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : राज्य में कोरोना के मामले ब्लास्ट हो रहे हैं। जिस तेजी से कोरोना के मामले राज्य में बढ़ रहे हैं उतनी ही तेजी से मरने वालों की भी संख्या बढ़ रही है। राज्य में सबसे ज्यादा मामले कोलकाता से ही आ रहे हैं। इस गंभीर परिस्थिति को देखते हुए जादवपुर विश्वविद्यालय के स्टूडेंट्स आगे आये हैं। इन्होंने विश्वविद्यालय कैंपस को सेफ होम बनाने की मांग की। इस संबंध में वीसी को पत्र दिया गया है। दरअसल, कोलकाता के विभिन्न अस्पतालों में बेड की कमी देखी जा रही है। भारी संख्या में मरीज होम आइसोलेशन में हैं। साथ ही सेफ होम आइसोलेशन से इलाज का निर्देश दिया गया है। जिन मरीजों की हालत ज्यादा गंभीर नहीं उनका होम आइसोलेशन में ही इलाज चल रहा है। ऐसे में छात्र चाहते हैं कि जादवपुर विश्वविद्यालय के कैंपस को सेफ होम बनाया जाए ताकि मरीजों को मदद मिल सके। एसएफआई की तरफ से पत्र उपाचार्य को दिया गया है।
ये हैं प्रस्ताव
स्टूडेंट्स का प्रस्ताव है कि कैंपस के भीतर एसी कैंटीन, गेस्ट हाउस, होस्टल की तरह अन्य जगहों को सेफ होम में बदला जाये। जरूरत पड़ी तो विश्वविद्यालय के अध्यापक, रिसर्चर, स्टूडेंट्स सेफ होम का इस्तेमाल कर सकें, यह भी पत्र में उल्लेख किया गया है। इससे काफी मदद मिलेगी। उल्लेखनीय है कि वर्तमान में शिक्षण संस्थानों में पढ़ाई बंद है। ऑनलाइन पढ़ाई हो रही है। विश्वविद्यालय में प्रशासनिक विभाग ही खुले हैं। ऐसे में बाकी जगहों को सेफ होम के तौर पर इस्तेमाल करने का सुझाव दिया गया है। इसके साथ ही एसएफआई संगठन ने विवि. की लाइब्रेरी के ऑक्सीजन सिलेंडर को कोविड मरीजों के घर-घर पहुंचाने का कदम उठाने की बात कही है। उपाचार्य ने इस कदम को सराहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

एक महिला को गलती से 6 बार लगी कोरोना की वैक्सीन, जानिए उसके साथ क्या हुआ

टस्कनीः इटली में एक महिला को Pfizer की कोरोना वायरस वैक्सीन की 6 खुराकें लगा दी गईं। एक खुराक की जगह पूरी एक बोतल वैक्सीन लगने के आगे पढ़ें »

दिल्ली के कोरोना आंकड़ों ने फिर दी राहत 26 दिनों बाद इतना कम पॉजिटिविटी रेट

नई दिल्ली : राजधानी दिल्ली में पिछले 24 घंटों में 12 अप्रैल से अब तक सबसे कम कोरोना के मामले सामने आए हैं l मंगलवार आगे पढ़ें »

ऊपर