तीसरी लहर से पहले महानगर में सभी का टीकाकरण संभव नहीं : फिरहाद

50 फीसदी की जगह हर रोज 25 फीसदी वैक्सीन की है सप्लाईअब तक 21 फीसदी बस्तीवासियों का हुआ वैक्सीनेशन
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : महानगर के लोग लगातार वैक्सीन की किल्लत से जूझ रहा है अब भी सभी लोगों का वैक्सीनेशन नहीं किया जा सका है। कोलकाता नगर निगम के प्रशासक फिरहाद हकीम का दावा है कि वैक्सीन की इतनी कमी है कि तीसरी लहर तक भी महानगर के सभी लोगों का वैक्सीन संभव नहीं है। टॉक टू केएमसी के दौरान फिरहाद हकीम से पूछे गये एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि अगर केंद्र सरकार उचित मात्रा में वैक्सीन की सप्लाई करती तो अब तक महानगर के सभी लोगों को वैक्सीनेट कर दिया गया होता। केएमसी के स्वास्थ्य विभाग की ऐसी आधारभूत संरचना है जिसके जरिये प्रतिदिन एक लाख लोगों का टीकाकरण किया जा सकता हैं। लेकिन वैक्सीन की कमी की वजह से अब भी कई लाख लोगों का टीकाकरण बाकी है।
50 फीसदी की जगह सर रोज 25 फीसदी वैक्सीन की है सप्लाई
फिरहाद हकीम का कहना है कि कोलकाता नगर निगम हर रोज चाहे तो लगभग 50 हजार लोगों का टीकाकरण एक दिन में कर सकता है लेकिन हर रोज 25,000 तक टीकाकरण किया जा रहा है। केन्द्र सरकार टीकाकरण नीति का खामियाजा आम लोगों को भुगतना पड़ रहा है। बस्ती इलाकों में अब तक 21 फीसदी लोगों का ही टीकाकरण किया जा सकें। कोलकात नगर निगम की स्वास्थय विभाग की टीम लगातार बस्ती इलाकों में जाकर लोगों को जागरूक कर रही है ताकि लोग वैक्सीन लगावाएं। लेकिन कोलकाता नगर निगम की भी एक समस्या है कि वैक्सीन की कमी है। ऐसे में कई बार लोगों को वापस भी घर भेज दिया जा रहा है। फिलहाल हमें अधिक से अधिक वैक्सीन की जरूरत है और केन्द्र को इस बात से फर्क नहीं पड़ रहा है। केएमसी सभी लोगों के लिए टीकाकरण चाहता हैं। अगर हमें पर्याप्त टीके मिलते हैं, तो हम सभी का टीकाकरण करेंगे। अगर वैक्सीन नहीं मिलेगा तो केएमसी कैसे टीकाकरण करेगा।
लोगों को अलर्ट रहने की अपील की
कोलकाता नगर निगम के प्रशासक फिरहाद हकीम ने लोगों को सोशल डिस्टेंश का पालन करने की अपील करते हुए कहा है कि बिना मास्क पहनें घर से बाहर ना निकलें। जगह-जगह भीड़ ना करें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

महानगरः मार्केट खुलने के एक महीने में भी पटरी पर नहीं लौट पा रहा व्यवसाय

कोरोना काल, ट्रेनों का बंद रहना और तीसरी लहर के डर से नहीं हो रही भीड़ सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोरोना वायरस की दहशत कुछ कम होने आगे पढ़ें »

ऊपर